imra

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने वॉशिंगटन पोस्ट को दिए एक इंटरव्यू में भारत की वर्तमान मोदी सरकार को ऐंटी मुस्लिम और ऐंटी पाकिस्तान बताते हुए कहा कि भारत में चुनाव नजदीक हैं इसलिए भारत पाकिस्तान विरोधी दिखा रहा है।

इंटरव्यू में इमरान खान ने सिख श्रद्धालुओं के लिए खोली गई करतारपुर सीमा और 26/11 मुंबई हमले का भी जिक्र किया है। इस इंटरव्यू में इमरान से सवाल पूछा गया था कि भारत ने उनकी तरह से दिखाए गए सभी तरह के भावों (जेस्चर्स) को खारिज कर दिया है।

इस पर इमरान ने कहा कि ऐसा इसलिए क्योंकि भारत में चुनाव आने वाले हैं। इसीलिए वहां की सरकार मेरे प्रस्ताव ठुकरा रही है। उम्मीद है कि चुनाव खत्म होने के बाद भारत-पाक फिर वार्ता के रास्ते पर लौटेंगे।’ इमरान ने मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की बात भी कही। उन्होंने कहा, ‘इस मामले को हल करना हमारे हित में भी है, क्योंकि यह आतंकवाद से जुड़ा है।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

modi az

इमरान खान ने अमेरिका के साथ रिश्तों पर बात करते हुए कहा कि पाकिस्तान किसी के हाथ की कठपुतली बनकर नहीं रहेगा। 1980 के दशक में सोवियत संघ के खिलाफ लड़ाई से लेकर मौजूदा दौर में आतंकवाद के खिलाफ चल रही जंग का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं ऐसा संबंध नहीं चाहता कि पाकिस्तान किसी के लिए हथियार की तरह काम करे। उसे पैसे देकर किसी के खिलाफ लड़ाई में इस्तेमाल किया जाए। इससे ना केवल हमारे लोगों की जान जाती है, बल्कि हमारे कबीलाई इलाके बरबाद होते हैं और हमारी प्रतिष्ठा भी धूमिल होती है।’

बता दें कि इमरान खान ने पद संभालने के साथ ही अमेरिका की कथित आतंक के खिलाफ लड़ाई से दूर रहने का ऐलान करते हुए कहा था कि भविष्य में पाकिस्तान दूसरे देशों की लड़ाइयां नहीं लड़ेगा। पीएम इमरान खान ने कहा कि हमारा लक्ष्य सबके साथ खड़ें रहना होगा और हम लोगों के लिए काम करेंगे। इमरान की सरकार विदेश नीति देश के सर्वोच्च हित में होगी।

Loading...