Saturday, September 25, 2021

 

 

 

जलालाबाद पर तालिबान का कब्ज़ा, अब बचा काबुल

- Advertisement -
- Advertisement -

नयी दिल्ली – लगभग बीस वर्षों तक अफगानिस्तान में अपनी सेना जमाये अमेरिका तथा नाटो की वापसी के बाद हालात इतनी तेज़ी से बदलेंगे यह काफी अचंभित करने वाला है. लगभग एक तिहाई से अधिक अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्ज़ा हो चूका है और तालिबानी लड़ाके निरंतर बचे हुए जिलों पर कब्ज़ा कर रहे हैं. वहीँ राजधानी काबुल तेजी से अलग-थलग पड़ती जा रही है और रविवार सुबह चरमपंथी संगठन ने जलालाबाद पर कब्जा कर लिया जिसके कारण काबुल देश के पूर्वी हिस्से से कट गया है।

काबुल के अलावा जलालाबाद ही ऐसा इकलौता प्रमुख शहर था जो तालिबान के कब्जे से बचा हुआ था। अब अफगानिस्तान की केंद्रीय सरकार के अधिकार में काबुल के अलावा सात अन्य प्रांतीय राजधानी बची हैं। तालिबान ने रविवार सुबह कुछ तस्वीरें ऑनलाइन जारी कीं जिनमें उसके लोगों को नांगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद में गवर्नर के दफ्तर में देखा जा सकता है।

Taliban seizes Jalalabad, only Kabul city remains under Afghan government  control | World News | Zee News

प्रांत के सांसद अबरारुल्ला मुराद ने बताया कि चरमपंथियों ने जलालाबाद पर कब्जा कर लिया है। तालिबान ने पिछले सप्ताह में अफगानिस्तान के बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया था जिसके बाद अफगानिस्तान की केंद्र सरकार पर दबाव बढ़ गया है। उधर, अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने वहां मौजूद अपने राजनयिक स्टाफ की मदद के लिए सैनिकों को भेजा है।

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने शनिवार को कहा था कि वह 20 वर्षों की ‘उपलब्धियों’ को बेकार नहीं जाने देंगे। उन्होंने कहा कि तालिबान के हमले के बीच ‘विचार-विमर्श’ जारी है। उन्होंने शनिवार को टेलीविजन के माध्यम से राष्ट्र को संबोधित किया। हाल के दिनों में तालिबान द्वारा प्रमुख क्षेत्रों पर कब्जा जमाए जाने के बाद से यह उनकी पहली सार्वजनिक टिप्पणी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles