अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के नए ‘मुस्लिम बैन’ के आदेश पर फिर से पानी फिर गया हैं. दरअसल हवाई कोर्ट ने इस आदेश पर लागू होने से पहले ही रोक लगा दी हैं. आदेश पर रोक लगने से नाराज ट्रम्प ने फिर से कड़ी प्रतिक्रिया दी हैं. उन्होंने इस फैसले को न्यायपालिका का कार्यपालिका के काम में दखल बताया.

ट्रम्प ने कहा कि, ‘अदालत ने जिस आदेश पर रोक लगाई है उसके प्रावधान पहले आदेश कम सख्त थे, ये पहले कभी नही हुआ न्यायिक हस्तक्षेप है.’ डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि अगर जरुरत पड़ी तो वे इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट भी जाएंगे.

दरअसल ट्रम्प के सीरिया सहित सात मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों पर प्रतिबंध लगाने सबंधी आदेश पर अमेरिका की कई संघीय अदालतों ने गैर कानूनी करार देते हुए रोक लगा दी थी. जिसके बाद ट्रम्प ने प्रावधानों में कुछ ढील देते हुए प्रतिबंध सूची से इराक का नाम बाहर कर दिया था. साथ ही ट्रैवल बैन में पहले से ग्रीन वीजा धारकों को अमेरिका में आने की इजाजत दी थी, लेकिन फिर भी हवाई की अदालत ने इस आदेश पर रोक लगा दी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हवाई की अदालत ने पूरे अमेरिका में ट्रम्प के आदेश पर रोक लगाते हुए कहा कि, ‘नया कार्यकारी आदेश विधिसम्मत नहीं है, और ये मुसलमानों के साथ भेदभाव कायम करने की मंशा के साथ लागू किया गया है.’ यह फ़ैसला ट्रम्प के प्रशासनिक आदेश के लागू होने से कुछ घंटे पहले आया है.

Loading...