Sunday, December 5, 2021

ओमान की लेखिका जोखा अल्हार्थी को मिला 2019 का मैन बुकर प्राइज़

- Advertisement -

ओमान की लेखिका जोखा अल्हार्थी  को उनकी किताब ‘कैलेस्टियल बॉडीज’ के लिए प्रतिष्ठित मैन बुकर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। जोखा अल्हार्थी अरबी भाषा की पहली लेखिका हैं, जिन्हें ये पुरस्कार दिया गया है।

इस किताब की कहानी तीन बहनों और एक मरुस्थली देश की है, जो दासता के अपने इतिहास से उबर कर जटिल आधुनिक विश्व के साथ तालमेल करने की जद्दोजहद करता है। जोखा अल्हार्थी पुरस्कार में मिली 50,000 पाउंड की राशि को ब्रिटेन की अनुवादक मैरीलिन बूथ के साथ साझा करेंगी।

पैनल की अगुवा एवं इतिहासकार बिटैनी हग्स ने मंगलवार को कहा कि जिस उपन्यास ने यह पुरस्कार जीता है, उसने दिल और दिमाग दोनों जीत लिया है। ‘कैलेस्टियल बॉडीज’ ने यूरोप और दक्षिण अमेरिका की पांच प्रविष्ठियों को पछाड़ कर यह पुरस्कार हासिल किया है।

जोखा अल्हार्थी ने मंगलवार को ब्रिटेन की राजधानी लंदन में समारोह के बाद संवाददाताओं से कहा, “मैं रोमांचित हूं कि समृद्ध अरबी संस्कृति के लिए एक खिड़की खोल दी गई है।” “ओमान ने मुझे प्रेरित किया लेकिन मुझे लगता है कि अंतरराष्ट्रीय पाठक पुस्तक में मानवीय मूल्यों – स्वतंत्रता और प्रेम से संबंधित हो सकते हैं।

अल्हार्थीलघु कथा के दो पिछले संग्रह, एक बच्चों की किताब और अरबी में तीन उपन्यासों के लेखक हैं। उन्होंने एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में शास्त्रीय अरबी कविता का अध्ययन किया और ओमान की राजधानी मस्कट में सुल्तान कबूस विश्वविद्यालय में पढ़ाया।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles