देश की राजधानी दिल्ली में तीन दिनो से जारी मुस्लिम विरोधी हिंसा पर मुस्लिम देशों के सबसे बड़े वैश्विक मंच इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) ने गुरुवार को कहा कि भारत में मुसलमान खतरे में है।

ओआईसी ने ट्वीट किया, भारत में मुस्लिमों के खिलाफ हालिया हिंसा में तमाम मौतें हुईं और मासूम लोग जख्मी हुए जो खतरे की घंटी है। नई दिल्ली में हुई हिंसा में मुस्लिमों की संपत्ति और मस्जिदों को नुकसान पहुंचाए जाने की हम कड़ी निंदा करते हैं। संगठन ने कहा कि इन घृणित कृत्यों के पीड़ित के परिवारों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं।

ओआईसी ने #IndianMuslimsInDanger हैशटैग का इस्तेमाल करते हुए भारतीय प्रशासन से मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा भड़काने और साजिश रचने वाले लोगों को सजा दिलाकर न्याय सुनिश्चित करने की मांग की। ओआईसी ने ये भी कहा कि भारतीय प्रशासन अपने मुस्लिम नागरिकों और देश भर में इस्लाम के पवित्र स्थलों की सुरक्षा करे।

हालांकि ओआईसी के इस बयान पर भारत ने आपत्ति जताई, कहा, इस्लामी सहयोग संगठन (ओआईसी) का बयान गलत और गुमराह करने वाला है।विदेश मंत्रालय ने मुसलमानों के खिलाफ कथित भेदभाव पर समूह की टिप्पणियों पर कहा, सामान्य स्थिति बहाल करने की कोशिशें चल रही है, हम संगठनों से गैरजिम्मेदाराना बयान न देने का अनुरोध करते हैं।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, पीएम ने सार्वजनिक रूप से शांति और भाईचारे की अपील की है। मैं कुछ बयानों का भी उल्लेख करना चाहूंगा। हम आग्रह करेंगे कि इस तरह की गैरजिम्मेदार टिप्पणी करने का यह सही समय नहीं है, इससे जितनी समस्याएं सुलझेंगी, उससे ज्यादा समस्याएं पैदा हो सकती हैं

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन