Friday, January 28, 2022

क्या सऊदी तुर्कों के हज पर लगाने जा रहा प्रतिबंध? सामने आई बड़ी खबर

- Advertisement -

जमाल खशोगी की ह*त्या के बाद से तुर्की और सऊदी अरब के संबंधों आ गया है। ऐसे मे सऊदी की और से तुर्कों पर हज के “तीन साल का प्रतिबंध” की खबरे सामने आई है। हालांकि तुर्की के धार्मिक मामलों के प्रेसिडेंसी (D PresB) ने इन अफवाहों का खंडन किया और कहा कि वे सऊदी अरब में पवित्र इस्लामी स्थलों की यात्रा करने की अनुमति देने और तीर्थयात्रियों की संख्या बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं।

सऊदी अरब की वार्षिक हज यात्रा मुसलमानों के लिए एक धार्मिक दायित्व है, अगर आर्थिक रूप से संभव हो तो अपने जीवन में कम से कम एक बार यात्रा अवश्य करें। इस्लाम के पांचवें “स्तंभ” को ध्यान में रखते हुए, हज का उद्देश्य मुसलमानों की एकजुटता और अल्लाह के प्रति समर्पण को प्रदर्शित करना है। तीर्थयात्रा हर साल इस्लामिक कैलेंडर के 12 वें और अंतिम महीने धू अल हिजाह के आठवें से 12 वें दिन तक होती है। हर साल, दुनिया भर के लाखों मुसलमान मक्का और मदीना पर जाते हैं जहां काबा और पैगंबर मोहम्मद की कब्र सहित पवित्र स्थल स्थित हैं।

हजयात्रा सेवा विभाग के प्रमुख रेम्जी बिरकान ने अनादोलु एजेंसी (AA) को बताया कि सोशल मीडिया पर चल रही अफवाहें सच नहीं है। उन्होने कहा कि वे अपने कोटे को बढ़ाने के लिए सऊदी अधिकारियों से बातचीत कर रहे है। तुर्की के लिए 3,500 का कोटा बढ़ाए जाने कि उम्मीद है।

बिरकान ने कहा कि DİB पहले से ही तुर्की नागरिकों के लिए 2020 तीर्थ यात्रा और सहायता व्यवस्था पर काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि सऊदी अधिकारियों के साथ तीर्थयात्रियों के पंजीकरण और आवेदकों के बीच से तीर्थयात्रियों को चुनने के लिए एक ड्राइंग स्थापित करने सहित उनका काम हमेशा की तरह जारी रहेगा।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles