यरूशलेम के कब्जे वाले शहर में अल-अक्सा मस्जिद रविवार को इबादत करने वालों के लिए फिर से खुल जाएगी, अनादोलू एजेंसी ने जॉर्डन में इस्लामिक मामलों और पवित्र स्थानों के मंत्री मुहम्मद अल-खलीलेह के हवाले से ये खबर दी है।

बता दें कि कोरोनोवायरस महामारी के कारण मस्जिद को दो महीने के लिए बंद कर दिया गया था। अल-खलीलेह ने कहा कि मुस्लिम पवित्र स्थल फिर से खुलने पर सामाजिक संतुलन और अन्य कोरोनोवायरस संबंधी उपाय देखे जाएंगे। मस्जिद को फिर से खोलने का निर्णय यरूशलेम बंदोबस्ती विभाग के साथ समन्वय में लिया गया।

जो जॉर्डन के आवाक मंत्रालय के साथ संबद्ध है कहता है कि स्वास्थ्य संकेतकों से पता चलता है कि कोरोनावायरस संक्रमण दर कम हो गई थी। 15 मार्च को, धार्मिक अधिकारियों ने अल-अक्सा और डोम ऑफ द रॉक को बंद कर दिया, और एक हफ्ते बाद नमाजियों के परिसर में खुले क्षेत्रों में इकट्ठा होने से प्रतिबंधित कर दिया।

कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए अपने इतिहास में पहली बार रमजान के पवित्र महीने में अल अक्सा को इबादत के लिए बंद किया गया। बता दें कि यहूदी इस क्षेत्र को टेंपल माउंट कहते हैं, यह दावा करते हैं कि यह प्राचीन काल में दो यहूदी मंदिरों का स्थल था।

1967 के अरब-इजरायल युद्ध के दौरान, इजरायल ने पूर्वी यरुशलम पर कब्जा कर लिया, जहां अल-अक्सा स्थित है। इसने 1980 में पूरे शहर को अंतरराष्ट्रीय समुदाय द्वारा कभी भी मान्यता नहीं दी। फिलिस्तीन में अब तक कोरोना के कुल 388 मामले सामने आ चुके है। जिनमे से 337 पूरी तरह से ठीक हो चुके है। हालांकि दो लोगो की मौ’त हो चुकी है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन