फिलिस्तीनी संगठन हमास और ईरान के समर्थन को लेकर भडके सऊदी अरब ने अपने सहयोगी देशों के साथ मिलकर आतंक का आरोप लगाते हुए क़तर के साथ सभी रिश्तें तोड़ लिए है. लेकिन अब कई देशों ने खुलकर क़तर का समर्थन कर दिया है.

तुर्की, कुवैत, मोरक्को के बाद अब इराक ने कहा कि वह सऊदी अरब और उसके कुछ घटकों द्वारा क़तर को अलग थलग किए जाने का विरोधी है क्योंकि इस प्रकार की कार्यवाही से आम लोगों को नुक़सान पहुंचेगा. इसी बीच इराक़ के प्रधानमंत्री हैदर अलएबादी ने बुधवार को सऊदी अरब की यात्रा करने वाले है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अलएबादी ने इस बारें में कहा कि इस यात्रा के दौरान सऊदी अधिकारियों से क़तर के विरुद्ध लगाए गये आरोपों का स्पष्टीकरण मांगा जाएगा.

गौरतलब रहें कि पिछले सप्ताह सऊदी अरब, संयुक्त अरब इमारात, बहरैन और मिस्र ने क़तर से अपने संबंध तोड़ लिए थे. इन देशों ने क़तर से मांग की है कि वह फ़िलिस्तीन के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन हमास का समर्थन समाप्त करे.

Loading...