Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

इस्लामोफोबिया: मस्जिद हम’ले के लिए नार्वे के नागरिक को मिली 21 साल की सजा

- Advertisement -
- Advertisement -

कोपेनहेगन, डेनमार्क: एक नॉर्वेजियन व्यक्ति जिसने अपने सौतेली बहन की ह’त्या कर दी और फिर ओस्लो मस्जिद में आग लगा दी। जिससे किसी को नुकसान नहीं पहुंचा, गुरुवार को दोषी पाया गया और 21 साल की सजा सुनाई गई।

अभियोजक जोहान ऑवरबर्ग ने अधिकतम जुर्माना की मांग करते हुए कहा कि फिलिप मंसहॉस, जिन्होंने अदालत में कहा था कि उन्हें अधिक नुकसान नहीं होने का पछतावा है, “बहुत खत’रनाक व्यक्ति साबित हुए हैं”।

पिछले साल 22 साल के मंसहॉस ने पहली बार बेरुम के ओस्लो उपनगर में अपने घर पर शिकार की राइफल से चार बार गोली मारकर अपनी 17 वर्षीय सौतेली बहन को मा’र डाला था। फिर वह पास की एक मस्जिद में पहुंचे, जहां तीन लोग ईद अल-अधा की तैयारी कर रहे थे।

मंसूबे ने मस्जिद के शीशे के दरवाजे पर राइफल से चार गोलियां चलाईं, इससे पहले कि वह आगे कुछ कर पाता कि मस्जिद के किसी ने उसे पाने काबू में कर लिया।  अदालत में, मैनहॉस ने कृत्यों को कबूल किया लेकिन उन्हें “आपातकालीन न्याय” कहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles