Tuesday, October 26, 2021

 

 

 

न्यूजीलैंड की पीएम ने नरसं’हार की लाइव स्ट्रीमिंग पर फेसबुक से मांगा जवाब

- Advertisement -
- Advertisement -

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने रविवार को कहा कि वह फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया कंपनियों से इस बात का जवाब चाहती हैं कि उनकी सोशल साइट पर मस्जिदों में लोगों पर हुए हमले का सीधा प्रसारण कैसे हुआ। आर्डर्न ने ये भी बताया कि उनके ऑफिस को हमलावर का एक घोषणा पत्र मिला था।

आर्डर्न ने रविवार को बताया कि आतंकी हमले से नौ मिनट पहले 30 लोगों को यह पत्र मेल किया गया था। हालांकि, पीएमओ को मिले पत्र में हमले की जगह और अन्य जानकारियां नहीं थीं। इसे तुरंत सुरक्षा एजेंसियों को दे दिया गया था।शुक्रवार को क्राइस्टचर्च स्थित अल-नूर और लिनवुड मस्जिद में गोलीबारी से 50 लोगों की मौत हुई थी। इनमें आठ भारतीय हैं। 50 अन्य जख्मी हैं।

फेसबुक न्यूजीलैंड की मिया गार्लिक ने रविवार को एक बयान में कहा कि नियमों का उल्लंघन करने वाली विषयवस्तु को हटाने के लिए वह लगातार काम कर रही हैं। कंपनी ने कहा, ‘पहले 24 घंटे में हमने हमले के वैश्विक स्तर पर 15 लाख विडियो हटाए जिनमें से 12 लाख को अपलोड करते समय ब्लॉक किया गया है।’ बता दें कि 28 साल के बंदूकधारी हमलावर ब्रेंटन टैरेंट ने घटनास्थल की लाइव स्ट्रीमिंग की थी। इस घटना ने न्यूजीलैंड के लोगों को हैरान कर दिया जो देश विश्व में शांति के लिए जाना जाता है।

इसी बीच ऑस्ट्रेलियाई मूल के हमलावर ब्रेंटन टैरंट के परिजनों ने भी हमले की निंदा की है। ब्रेंटन की दादी ने कहा, ‘यह हमारे लिए भी चौंकाने वाला है। हम सोच भी नहीं सकते थे कि वो ऐसा कुछ कर सकता है। वो हाल ही में युरोप घूमकर वापस आया था। हमें उम्मीद नहीं थी कि वह युरोप यात्रा के दौरान श्वेत राष्ट्रवादी विचारधारा से जुड़ेगा और फिर इस नफरत को हिंसा में बदल देगा।’

वहीं टैरंट को शनिवार को जब काेर्ट में पेश किया गया तो उसे अफसाेस तो दूर की बात है, उसने ओके का साइन बनाकर दिखाया। यह साइन श्वेत नस्लवादी समूहों द्वारा इस्तेमाल किया जाता रहा है। उसके मन में इस्लाम ही नहीं बल्कि अश्वेत लोगों के प्रति भी नफरत का भाव था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles