पिछले हफ्ते मस्जिदों पर हुए आतंकवादी हमले को लाइव दिखाने के विरोध में न्यूजीलैंड की कंपनियों ने फेसबुक और गूगल पर विज्ञापन नहीं देने का फैसला किया है। साथ ही कुछ बड़ी कंपनियां फेसबुक और गूगल से विज्ञापन हटा रही हैं।इस हमले में 50 मुसलमानों की मौत हो गई थी।

न्यू जीलैंड हेराल्ड ने सोमवार को कहा कि विज्ञापन हटाने वाली कंपनियों में एएसबी बैंक, लोट्टो एनजेड, बर्गर किंग, स्पार्क ने एकसाथ आकर इसका विरोध किया है। अखबार ने कहा कि अन्य ब्रैंड्स ने भी स्वतंत्र रूप से प्रतिक्रिया दी है। हालांकि फेसबुक ने सफाई दी है कि वारदात के 24 घंटे के भीतर इसने हमले के 15 वीडियो अपने प्लेटफॉर्म से हटा दिए थे।

Loading...

दरअसल, आतंकवादी ने गो प्रो कैमरे का इस्तेमाल करते हुए अल-नूर मस्जिद में हुए नरसंहार को फेसबुक पर लाइव किया था। लाइवस्ट्रीम हमले के घंटों बाद तक मौजूद रही। फेसबुक पर लाइव होने के अलावा फेसबुक द्वारा सोशल मीडिया से 17 मिनट के विडियो को डिलीट करने से पहले इसे यूट्यूब और ट्विटर पर बार-बार शेयर किया जाता रहा।

इसी बीच एयरएशिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) टोनी फर्नांडीज ने अपना फेसबुक अकाउंट डिलीट कर दिया है। उन्होंने कहा कि फेसबुक को सफाई करने की जरूरत है और सिर्फ पैसे के बारे में नहीं सोचना है। फर्नांडीज ने कई ट्वीट्स में अपने फैसले की घोषणा की। फर्नांडीज के फेसबुक पर 6.7 लाख फॉलोवर्स हैं।

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंदा आर्डर्न ने रविवार को कहा था, ‘मैं फेसबुक से पूछना चाहती हूं कि एक बंदूकधारी सामूहिक हत्या की लाइव स्ट्रीमिंग कैसे कर रहा था। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने सोशल मीडिया पर लाइव स्ट्रीमिंग बंद करने की मांग की है। इस घटना के बाद फेसबुक की काफी आलोचना हुई है।’

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें