OIC की इमरजेंसी बैठक में बोला तुर्की, नेतन्याहू ने कुछ वोटों के लिए….

7:17 pm Published by:-Hindi News

ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (OIC) की विदेशी मंत्रियों के स्तर की आपात बैठक रविवार को सऊदी अरब के जेद्दा में आयोजित हुई।

इस मौके पर तुर्की के विदेश मंत्री Mevlüt Çavuşoğlu ने कहा, इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की वेस्ट बैंक में कब्जे वाली भूमि के बड़े हिस्से को हटाने की योजना कुछ भी नहीं है। लेकिन उन्होने कुछ वोटों को पाने के लिए ये प्रयास किया है।

विदेश मंत्री ने कहा , “यह शर्मनाक बयान मध्य पूर्व में एक स्थायी शांति, [प्राप्त करने] की आशाओं को नष्ट करने की कीमत पर आने वाले चुनाव में कुछ और वोट जीतने का एक अशिष्ट प्रयास है।”

बता दें कि मंगलवार को, नेतन्याहू ने एक चुनावी रैली के दौरान वादा किया था कि अगर वह आम चुनाव जीतते हैं तो वह जॉर्डन घाटी सहित वेस्ट बैंक में कब्जे वाली जमीनों के बड़े हिस्से को एनेक्स करेंगे। नेतन्याहू की घोषणा से मुस्लिम राज्यों और कई अन्य देशों की निंदा हुई।

शीर्ष तुर्की राजनयिक ने कहा कि फिलिस्तीनी क्षेत्रों में इजरायल के कब्जे ने फिलिस्तीनियों के दैनिक जीवन पर भारी नुकसान पहुंचाया। वह बताता है कि इजरायल को “कुछ” देशों द्वारा प्रोत्साहित किया गया था और इसकी राजनीतिक प्रणाली एक रंगभेद और नस्लवादी शासन में बदल गई है।

उन्होंने कहा, “यह नई नीति-उपदेश उन [देशों] के लिए एक चेतावनी होनी चाहिए जो इजरायल के उल्लंघन और उकसावे की जांच कर रहे हैं,” उन्होंने कहा, और मुस्लिम दुनिया को फिलिस्तीनी कारण के साथ एकजुटता में खड़े होने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि इजरायल सरकार की इस ताज़ा टिप्पणी से मुस्लिम देशों को तथाकथित “सेंचुरी की डील” पर सवाल उठाना चाहिए और ओआईसी के कुछ सदस्यों को इज़राइल के अवैध कार्यों पर आपत्ति जतानी चाहिए।

Loading...