लाहौर | पाकिस्तान के वजीरे आजम आजकल कट्टरपंथियों के निशाने पर है. उनके खिलाफ ईशनिंदा के आरोप में एक फतवा भी जारी किया गया है. अब जामत-उद-दावा प्रमुख ने उन पर आरोप लगाय है की नवाज शरीफ ने हिन्दुओ का त्यौहार होली इसलिए मनाया है क्योकि इसके जरिये वो हिंदुस्तानी सरकार को खुश करना चाहते थे. उन्होंने यह भी आरोप लगाया की नवाज सरकार देश की विचारधारा को कमजोर कर रही है.

जमात-उद-दावा के कार्यकारी प्रमुख अब्दुल रहमान मक्की ने गुरुवार को लाहौर में एक प्रेस कांफ्रेंस करके ये बाते कही. उन्होंने कहा की प्रधानमंत्री और अन्य सत्ताधारी नेताओं ने भारत सरकार को खुश करने के लिए होली का त्यौहार मनाया. उन लोगो को समझना होगा की हिन्दू और मुस्लिम बिलकुल अलग अलग है. हमारे में कोइ समानताये नही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मक्की ने आगे कहा की हिन्दू और मुस्लिम , दोनों की संस्कृति अलग अलग है. इसलिए ये दोनों साथ साथ नही रह सकते. पाकिस्तानी सरकार , हिन्दुस्तानी सरकार के सामने दोस्ती का हाथ बढाकर देश की विचारधारा को कमजोर करने के कोशिश कर रहे है. लेकिन हम इसकी हिफाजत करेंगे और दुश्मनों के खिलाफ देश को और ताकतवर बनायेंगे. मालूम हो की मक्की , आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के रिश्तेदार है.

मालूम हो की नवाज शरीफ ने होली के दिन कराची में आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. उस दौरान उन्होंने सौहार्द की बात करते हुए कहा था की किसी का जबरदस्ती धर्मांतरण करना और दुसरे धर्म के पूजा स्थलों को नुक्सान पहुँचाना, इस्लाम में अपराध है. उन्होंने ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा की मैं यह देखकर खुश हूँ की कराची में बिना किसी रुकावट के होली खेली जा रही है. इसके बाद से नवाज शरीफ कट्टरपंथियों के निशाने पर है.

Loading...