अरुणाचल प्रदेश पर वर्षों से हक जता रहे चीन के सैनिक अब भारतीय इलाके में घुसपैठ कर पत्थरों पर चीनी भाषा में लिखकर इस इलाके पर अपना हक़ जता रहे है. इतना ही नहीं वे तिब्बत में लोगों को मारकर नदी में फेंक रहे है. चीनी पत्थरों पर लिख रहे ”ये इलाका हमारा है.”

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश के किविथू से सटी लाइन ऑफ कंट्रोल पर भारत और चीन के बीच तनातनी आम बात हो चुकी है. स्थानीय लोगों के मुताबिक चीनी सैनिक तिब्बत में लोगों को मारकर लाशें फेंक देते है. जो चीन की निगिचू और भारत में आने के बाद लोहित नदी में बहकर आती हैं.

रिपोर्ट में बताया गया कि आईटीबीपी के इंस्पेक्टर डी करुणाकर ने बताया कि चीनी सैनिक पत्थरों पर संदेश लिखने के अलावा लाल रंग के बैनर पर भी ऐसे ही संदेश दिखाते हैं जब भारतीय सैनिकों से उनका आमना-सामना होता है. वह बताते हैं कि इसके जवाब में भारतीय सैनिक भी उन्हीं की भाषा में उन्हें जवाब देते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

डी करुणाकर ने बताया कि चीन इलाके में  पेट्रोलिंग ज्यादा नहीं करता है, लेकिन रेडोम, सैटेलाइट से निगरानी रखता हैं. डी करुणाकर ने यह भी बताया कि चीनी सैनिक भारतीय सीमा में घुसकर शराब की बोतलें, बीयर के कैन, खाने के सामान का कचरा आदि फेंककर उसका फोटो लेकर चले जाते हैं.

अरूणाचल प्रदेश में सामरिक रूप से संवेदनशील असाफिला इलाके में सीमा के पास भारतीय जवानों की पेट्रोलिंग को चीन ने अतिक्रमण करार देते हुए पिछले महीने विरोध दर्ज कराया. 15 मार्च को हुई बॉर्डर पर्सनल मीटिंग में चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने आसफिला सेक्टर में 21, 22 और 23 दिसंबर को सेना की पट्रोलिंग पर विरोध जताया था. चीन ने कहा था कि इस तरह की घटनाओं से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ेगा.

हालांकि, चीन के विरोध को खारिज करते हुए भारत की तरफ से कहा गया कि उनके जवान नियंत्रण रेखा से भलीभांति वाकिफ हैं और सेना नियंत्रण रेखा के पास पेट्रोलिंग करती रहेगी जहां दोनों देशों के बीच वास्तविक नियंत्रण सीमा है.

Loading...