म्यांमार की पुलिस ने डी-फैक्टो नेता आंग सान सू की के खिलाफ आरोप प्रस्तुत किए है। इसके साथ ही हाल ही में सैन्य तख्तापलट के मद्देनजर जांच के लिए फरवरी के मध्य तक उन्हे हिरासत में लेने की मांग की है।

पुलिस ने सू की के खिलाफ अवैध रूप से संचार उपकरण आयात करने को लेकर केस दर्ज किया है। पुलिस दस्तावेज़ के अनुसार उन्हें 15 फरवरी तक हिरासत में रखा जाएगा।

सुरक्षा बलों ने दावा किया कि राजधानी नेयपीडॉ में उसके घर की तलाशी में वॉकी-टॉकी रेडियो मिला था। आरोप पत्र मेंकहा गया है कि रेडियो को अवैध रूप से आयात किया गया था और बिना अनुमति के इसका उपयोग किया जा रहा था।

इसके अलावा पुलिस ने राष्ट्रपति विन म्यिंट के खिलाफ भी पिछले नवंबर में एक चुनाव प्रचार के दौरान कोरोना वायरस संबंधी प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने को लेकर आरोप दायर किया है।

सू की की नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी (एनएलडी) पार्टी ने कहा कि उसके कार्यालयों पर कई क्षेत्रों में छापे मारे गए।

संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा कि सू की पर लगाए जा रहे आरोप म्यांमार की लोकतांत्रिक प्रक्रिया को कमज़ोर कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हम आंग सान सू की, राष्ट्रपति विन म्यिंट और पिछले कुछ दिनों में सेना द्वारा हिरासत में लिए गए अन्य सभी लोगों की तत्काल रिहाई की मांग करते हैं।