Saturday, July 31, 2021

 

 

 

म्यांमार ने अंतराष्ट्रीय न्यायालय में रोहिंग्या पर अपनी पहली रिपोर्ट की पेश

- Advertisement -
- Advertisement -

म्यांमार ने अल्पसंख्यक रोहिंग्या को नरसं’हार से बचाने के लिए क्या किया है, इसके बारे में उसने अपनी पहली रिपोर्ट अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) को सौंप दी है।

हेग स्थित अदालत ने जनवरी में एक अनंतिम आदेश जारी किया, जिसमें म्यांमार को पश्चिमी रिखाइन राज्य में ज्यादातर मुस्लिम समूह को “अनंतिम उपायों” के हिस्से के रूप में संरक्षित करने के लिए कहा गया था, जिसमें वर्षों से होने वाले मुकदमे की शुरुआत थी।

संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत ने गाम्बिया द्वारा लाए गए एक मामले पर विचार करने के लिए पिछले साल सहमति व्यक्त की कि म्यांमार ने रोहिंग्या के खिलाफ नर’संहार किया, हालांकि सरकार द्वारा सख्ती से इनकार किया गया।

अगस्त 2017 में म्यांमार की सेना ने रोहिंग्या सशस्त्र समूह के हमले के जवाब में रखाइन राज्य में “निकासी ऑपरेशन” शुरू किया। इसके कारण 730,000 से अधिक रोहिंग्या को पड़ोसी बांग्लादेश में भागने के लिए मजबूर किया और व्यापक आरोप लगाए कि सुरक्षा बलों ने सामूहिक ह’त्या, सामूहिक बला’त्कार, यातना और आगजनी की।

विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने तुर्की की अनादोलु समाचार एजेंसी को बताया कि शनिवार को प्रस्तुत रिपोर्ट अप्रैल में राष्ट्रपति विन म्यिंट के कार्यालय द्वारा जारी तीन निर्देशों पर आधारित थी। यह स्पष्ट नहीं है कि अदालत रिपोर्ट को सार्वजनिक करेगी या नहीं।

नाम न छापने की शर्त पर अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रपति ने क्षेत्रीय सरकार और सेना को एक नरसं’हार के सबूत को हटाने या नष्ट नहीं करने का आदेश दिया। उन्होंने रोहिंग्या के खिलाफ नरसं’हार के साथ-साथ उत्पीड़न और अभद्र भाषा को रोकने के भी निर्देश दिए। अधिकारी ने कहा, “मुझे पता है कि रिपोर्ट यह है कि हमने इन तीनों निर्देशों के बारे में क्या किया है और हम क्या कर रहे हैं, इस पर आधारित है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles