बांग्लादेश की चेतावनी पर म्यांमार रोहिंग्या शरणार्थियों के मुद्दे पर अब बातचीत के साथ ही उन्हें स्वीकार ने के लिए भी राजी हो गया है. जल्द ही दोनों देशों के बीच इस मुद्दें पर बातचीत शुरू होगी.

सयुंक्त राष्ट्र के अनुसार, एक अनुमान के मुताबिक़ लगभग 65 हजार रोहिंग्या मुसलमान इस समय बांग्लादेश में हैं. जो पिछले तीन महीनों में जारी हिंसा के बाद बॉर्डर पार कर बांग्लादेश पहुंचे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस मुद्दें को लेकर इसी सप्ताह म्यांमार की नेता आंग सान सू ने दोनों देशों के बीच इस मुद्दें को लेकर बिगड़ते रिश्तों के चलते अपना प्रतिनिधि म्यांमार भेजा था. बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बुधवार को म्यांमार को चेतावनी देते हुए रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस म्यांमार बुलाने की मांग की थी.

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने म्यांमार के उप विदेश मंत्री कियावटन से कहा है कि म्यांमार को बांग्लादेश में रह रहे सभी रोहिंग्या मुसलमानों को स्वीकार करना होगा.

म्यांमार के विदेश मामलों के मंत्रालय के महानिदेशक ऐ ऐ सोय, ने कहा कि दोनों देशों के बीच रोहिंग्या मुसलामानों की “पहचान और सत्यापन प्रक्रिया” पर विचार विमर्श शुरू होगा. यदि ये म्यांमार के नागरिक निकलते हैं तो इन्हें वापस म्यांमार बुलाया जाएगा.

Loading...