म्यांमार सरकार ने शांति वार्ता में विद्रोहियों को शामिल होने की अनुमति दे दी हैं वहीँ दूसरी तरफ  रोहिंग्या मुसलमानों के प्रतिनिधि को भाग लेने से मना कर दिया गया है।

फ़्रांसीसी टीवी चैनल-24 के अनुसार म्यांमार की विदेश मंत्री आंग सान सूची ने कहा था कि वह इस बात की पूरी कोशिश करेंगी कि बुधवार को शुरु हो रहे शांति सम्मेलन में सभी संप्रदाय के नेता भाग लें. इस 4 दिवसीय वार्ता में विद्रोहियों के प्रतिनिधि भी शामिल हैं।

बुधवार को होने वाली शांति वार्ता में संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून भी शामिल हो चुके हैं। इस दौरान उन्होंने म्यांमार में मुसलमान अल्पसंख्यकों के अधिकार पर ध्यान देने की मांग की है।

गौरतलब रहें कि म्यांमार में 2012 में रोहिंग्या मुसलमानों के ख़िलाफ़ चरमपंथी बौद्धधर्मियों के घातक हमलों के बाद कई लाख मुसलमान पश्चिमी म्यांमार में शरणार्थी कैंपों में रहने पर मजबूर हैं।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?