रोहिंग्या मुद्दे पर सयुंक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने म्यांमार को रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस लेना ही होगा. उन्होंने रोहिंग्या मुसलमानों को म्यांमार वापस भेजने के लिए अंतरराष्ट्रीय दबाव बनाने की अपील की.

उन्होंने कहा, “हम म्यांमार से कह चुके हैं कि रोहिंग्या आपके नागरिक हैं और उन्हें वापस लिया जाना चाहिए, उन्हें सुरक्षित रखें, उन्हें आश्रय दें साथ ही उनके साथ कोई उत्पीड़न और यातनायें न हो.” साथ ही उन्होंने कहा कि रोहिंग्या मसले पर अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप से उन्हें कोई उम्मीद नहीं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हसीना ने कहा “म्यांमार को शरणार्थी वापसी पर राजी करने के लिए बांग्लादेश कूटनीतिक प्रयास कर रहा है लेकिन म्यांमार इस पूरे मसले पर कोई जवाब नहीं दे रहा है. साथ ही रोहिंग्या मुस्लिमों को मारने के लिए सीमा पर माइंस बिछा चूका है.

उन्होंने डोनाल्ड ट्रम्प के साथ हुई बातचीत का हवाला दिया और बताया, उन्होंने (डोनल्ड ट्रंप) पूछा कि बांग्लादेश का हाल कैसा है? मैंने कहा कि म्यांमार शरणार्थियों की समस्या को छोड़ सब कुछ ठीक है. उन्होंने शरणार्थियों पर किसी तरह की टिप्पणी करने से मना कर दिया.

शेख हसीना ने कहा कि शरणार्थियों के प्रति ट्रंप का रवैया स्पष्ट था, इसलिए उनसे मदद की उम्मीद नहीं की जा सकती है. अमरीका पहले ही कह चुका है कि वे शरणार्थियों को नहीं स्वीकारेंगे. ऐसे में मैं उनसे क्या उम्मीद कर सकती हूं.