दुनिया के सबसे पीड़ित अल्पसंख्यक मुस्लिम रोहिंग्या समुदाय पर म्यांमार में हो रहा अत्याचार रुकने का नाम नहीं ले रहा हैं. अब बौद्ध भिक्षुओं ने जबरन मदरसों को बंद करवाना शुरू कर दिया हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक करीब यांगून में एक दर्जन से अधिक बौद्ध भिक्षु  मुस्लिम मदरसे के पास जमा हुए और पुलिस मौजूगी में मदरसों को बंद करने की मांग शुरू कर दी.

इस हंगामे के बाद मुस्लिम समुदाय के नेता टिन श्वे ने कहा कि आज जो भी हुआ वह मेरे लिए बेहद दुखद है. यह स्कूल अरसों पहले बनाया गया और हमारी कई पीढ़ियों ने इसका ध्यान रखा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि 2012 के संघर्ष के बाद म्यांमार के शासकों ने मुसलमानों को शिविरों और गांवों में कैद कर दिया गया. हाल मी में सुरक्षा बलों की कारवाई में कई मुस्लिमों की अपनी जान से हाथ धोना पड़ा तो कईयों को पलायन करना पड़ा.