dar yasin rohingya refugees 5 990x556

रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने वाला भाषण देने वाले बौद्ध समूहों  सहित देश के इस समुदाय के कुछ कट्टरपंथी लोगों को फेसबुक ने ब्लैक लिस्ट में डाल दिया है. इसके जरिये कंपनी ने यह दिखाने की कोशिश की है कि वह भड़काऊ सामग्री से निपटने की दिशा में कदम उठाने का काम कर रहे है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक,म्यांमार में फेसबुक का प्रभाव बहुत अधिक है क्योंकि देश में लगभग 1.8 करोड़ लोगों के इस सोशल मीडिया वेबसाइट पर अकाउंट है. वैसे आपको बता दें कि म्यांमार की आबादी करीब 5 करोड़ है. संयुक्त राष्ट्र के जांचकर्ताओं ने कहा कि देश में फेसबुक एक ‘दानव’ के रूप में परिवर्तित हो चुका है और कुछ लोग फेसबुक का गलत इस्तेमाल कर रहे है.

w34084

 

आको बता दें कि, पिछले साल अगस्त में म्यांमार सेना के कथित अत्याचार से बचने के लिए करीब 7 लाख रोहिंग्याओं ने बांग्लादेश में शरण ले रखी है. म्यांमार में इनके खिलाफ घृणा एवं हिंसा को बढ़ावा देने वाला कैंपेन चलाया जा रहा है.  इसका काफी हिस्सा फेसबुक पर भी चल रहा है.  इसके जवाब में ही फेसबुक ने ब्लैक लिस्ट करने की कार्रवाई की है.

बौद्ध नैशनलिस्ट मूवमेंट ‘मा बा था’ को फेसबुक ने बैन कर दिया है. इसके अलावा रोहिंग्याओं के खिलाफ नफरत फैलाने वाले फेमस बौद्ध भिक्षुओं को भी फेसबुक पर बैन किया गया है. फेसबुक के कंटेंट पॉलिसी मैनेजर ने कहा है कि इन्हें फेसबुक पर मौजूद रहने की अनुमति नहीं है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें