संयुक्त राष्ट्र ने म्यांमार से पलायन कर बांग्लादेश पहुँचने वाली रोहिंग्या शरणार्थियों के साथ हुए दुष्कर्म के मामले में म्यांमार सेना को दोषी करार दिया है.

संयुक्त राष्ट्र के अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन के निदेशक जनरल विलियम लेसी स्विंग ने कहा कि  रोहिंग्या शरणार्थियों के महिलाओं एवं लड़कियों के साथ कथित दुष्कर्म के लिए म्यांमार की सेना दोषी है. हालांकि म्यांमार सरकार ने स्विंग के दावों को ख़ारिज करते हुए अंतराष्ट्रीय जांच से भी इंकार कर दिया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ध्यान रहे बंगलादेश के कोक्स बाजार स्थित शरणार्थी शिविरों में आईओएम डॉक्टरों ने ऐसे दर्जनों महिलाओं की पुष्टि की है. जिनके साथ भयानक तरीके से बलात्कार हुआ है. स्विंग ने कहा, ‘महिलाओं और लड़कियों के अलावा पुरुषों और लड़कों को भी इस का शिकार बनाया गया है.

बलात्कार की पूष्टि करते हुए 25 साल की मीनारा ने कहा, ‘सेना हमें प्रताड़ित करती थी। उन्होंने हमारे माता-पिता की हत्या भी कर दी है. वे हमें जंगल में ले गए और जमीन पर धकेल दिया.

वहीँ मीनारा की छोटी बहन 22 साल की अजीजा ने बताया कि दो लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म किया और फिर इसके बाद वह बेहोश हो गई.

Loading...