source: Voice of the Cape

ट्रम्प के येरुशलम को इजराइल की राजधानी बनाने के फैसले के खिलाफ अपनी आवाज़ उठाने वाली 16 वर्षीय अहद तमीमी को इजराइल पुलिस ने बेवजह गिरफ्तार किया है. अहद इससे पहले भी कई विरोध प्रदर्शन करती नज़र आई है,लेकिन यह पहली बार है जब उन्हें इसरायली सैनिकों ने गिरफ्तार किया है.

अहद के पिता का कहना है कि “उनकी मेरी बेटी बहुत बहादुर है क्योंकि वह एक एक्टिविस्ट (कार्यकर्ता) है, वह बचपन से ही गलत चीज़ों के लिए आवाज़ उठती आयीं है इसलिए उनके किसी की मदद या हमदर्दी की ज़रूरत नहीं है. वह अपने हक़ की लड़ाई खुद लड़ सकती है.”

उनके पिता का कहना कि उन्हें “अपनी बेटी पर गर्व है की वो अपनी सरज़मीं के बचाव के लिए खाड़ी है, मझे एसा लगता है कि आने वाली पीढ़ी को इसी तरह का सहस और बहादुरी दिखने की ज़रूरत है, और दुश्मनों से डट कर लड़ने की हिम्मत होनी चाहए, जैसे अहद ने दिखाई है.”

source: Mondoweiss

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अल अरबिया के मुताबिक, अहद ने बचपन से ही फिलिस्तीनी लोगों के बुरे हालातों पर आवाज़ उठाई है और उठती रहेंगी. वहीँ अहद के पिता बासिम अल तमीमी ने बताया कि अहद ने येरुशलम पर इजराइल के कब्ज़ा करने लिए हमने कई बार लड़ाईयां की है, और हमने उनकी परवरिश भी इसी तरह की है.

जेरुशलम के हक़ लड़ाई करने के दौरान उनकी पिता 9 बार और मां को 5 बार गिरफ्तार किया जा चुका है, लेकिन वह हर बार नई उम्मीद के साथ इजराइल के खिलाफ खड़े रहते है और राज्य में एकजुटता बनाने रखने के लिए कई प्रदर्शन और रैली का आयोजन करते रहते है.

अहद के पिता का कहना है कि इजराइल सैनिकों ने उनकी बेटी पर कई गंभीर आरोप लगाए है जो कि सरासर बेबुनियाद है और अहद बेदुनाह है, इस बात का फैसला अदालत ही करेगी.

source: Mondoweiss
Loading...