जनसँख्या के आकड़ों का अध्ययन करने वाली अमेरिकी संस्था प्यू रिसर्च सेंटर ने अपनी नई रिसर्च में दावा किया हैं कि 2035 के बाद आबादी के मामलें में दुनिया के सबसे बड़े धर्म के मानने वालों यानि ईसाईयों को मुसलमान पीछे छोड़ देंगे.

प्यू रिसर्च सेंटर ने मुसलमानों जनसंख्या में बढ़ोतरी की जो वजह बताई हैं. वह भी काफी आश्चर्यचकित करने वाली हैं. रिपोर्ट में कहा गया कि आने वाले दिनों में ईसाई धर्म में सबसे ज्यादा मौतें दर्ज की जाएंगी. रिपोर्ट में इसकी वजह बताई गई है ईसाई समुदाय में सबसे ज्यादा उम्रदराज लोगों का होना हैं.

वहीँ दूसरी वजह बताई कि ‘अब से 20 साल से भी कम की अवधि में मुसलमानों को पैदा होने वाली संतान ईसाई धर्मावलंबियों के बच्चों से ज्यादा होगी.’ दरअसल अब तक दुनिया में सभी धर्मों में क्रिश्चयन धर्म की महिलाएं सबसे ज्यादा संतान को जन्म देती हैं.

प्यू रिसर्च सेंटर ने दावा किया कि, दुनिया भर में मुसलमानों की व्यस्क आबादी और उच्च प्रजनन दर की वजह से 2030 से 2035 तक 225 मिलियन मुस्लिम बच्चे पैदा होंगे, जबकि इसी दौरान क्रिश्चयन बच्चों की संख्या 224 मिलियन होगी. हालांकि इस दौरान भी दुनिया में कुल आबासी ईसाईयों की ही ज्यादा रहेगी. 2055 से 2060 के बीच ईसाईयों से मुस्लिम बच्चे 60 लाख ज्यादा हो जाएंगे.

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें