सोमवार को इस्तांबूल में एक भाषण के दौरान तुर्क राष्ट्रपति अर्दोगान ने कहा, मुस्लिम परिवारों को परिवार नियोजन में शामिल होने की ज़रूरत नहीं है और उन्हें ज़्यादा से ज़्यादा बच्चे पैदा करने की ज़रूरत है। उन्होंने आगे कहा कि, मैं यह स्पष्ट रूप से कह रहा हूं, हमें अपने वारिसों की संख्या बढ़ाने की ज़रूरत है, और इसके लिए सबसे पहली ज़िम्मेदारी माताओं की बनती है।

तुर्क राष्ट्रपति का कहना था कि लोग परिवार नियोजन के बारे में बात करते हैं। कोई भी मुस्लिम परिवार न ही इसे समझ सकता है और न ही स्वीकार कर सकता है। अर्दोगान के अनुसार, एक बच्चे का मतलब है तनहाई, दो का मतलब है प्रतिद्वंद्विता, तीन का मतलब है संतुलन और चार का मतलब है व्याप्त।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा, “ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा करना मुसलमानों के लिए पवित्र काम है। उन्हें अपने वंशजों की संख्या बढ़ानी चाहिए। परिवार नियोजन या जनसंख्या नियंत्रण पश्चिम की देन है। इसमें किसी भी मुस्लिम परिवार को शामिल नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा,”यह अल्लाह का काम है। इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं कर सकता। यह महिलाओं का पहला काम है।”