asad shah Britain

ब्रिटेन के शहर ग्लासगो में असद शाह नाम के व्यक्ति को एक कट्टरपंथी ने 30 बार चाकू से गोद डाला। उसका कसूर सिर्फ इतना था कि उसने अपने क्रिश्चियन दोस्‍तों को ‘ईस्‍टर की बधाई’ दी थी। असद शाह ग्लासगो में दुकान चलाते थे। उन्हें पड़ोसियों के बीच काफी शांतिप्रिय और दोस्ताना शख्स के तौर पर जाना जाता था।

उन्होंने अपने ईसाई दोस्तों को ईस्टर पर बधाई दी थी। अपने बधाई संदेश में असद ने जीसस की जिंदगी और स्कॉटलैंड की प्रशंसा की थी। बस यही बात कुछ कट्टरपंथियों को नागवार गुजरी। हमला करने वाले शख्‍स का नाम मोहम्मद फैजल है, उसकी 32 वर्ष बताई जा रही है, जबकि असद शाह 40 साल थे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पुलिस ने हमलावर को गिरफ्तार कर लिया है। हैरानी की बात यह है कि असद की हत्‍या करने वाला शख्‍स उनकी पारिवारिक मित्र है। पुलिस का कहना है कि दुकान में दाखिल होने के बाद दोनों के बीच बहस हुई थी। हमलावर का कहना था कि असद ने ईस्टर पर बधाई क्यों दी? बहस के दौरान ही वह चाकू से वार करने लगा।

असद शाह के भाई ने बताया कि जब फैजल ने हमला किया तो शोर सुनकर वह भागा। उसने हमलावर को हटाने की बहुत कोशिश की, लेकिन वह असद के सीने पर वार करता रहा। असद शाह ने मौत से पहले जो अंतिम पोस्‍ट डाली थी, उसमें उन्‍होंने लिखा था, ‘गुड फ्राइडे, वैरी हैप्‍पी ईस्‍टर, खासतौर पर मेरे प्‍यारे क्रिश्चियन राष्‍ट्र के लिए। चलो जीसस क्राइस्‍ट के दिखाए रास्‍ते पर चलें।’ इससे पहले असद ने ब्रसेल्‍स में हुए आतंकी हमले के बारे में भी फेसबुक पेज पर लिखा था।

Loading...