untitled 6 1533104306

लाहौर: पाकिस्तान के आम चुनाव को इमरान खान की तहरीक-ए-इंसाफ की बड़ी जीत से खास बना दिया है तो दूसरी और भी इस चुनाव से जुड़ी कई खासियत सामने आ रही है। उनमे से एक है मुस्लिम बहुल एरिया से 3 हिन्दू उम्मीदवारों की जीत।

दरअसल, पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के तीन हिन्दू उम्मीदवार सिंध प्रांत के मुस्लिम बहुल इलाकों से निर्वाचित हुए हैं। डेली टाइम्स की एक खबर के अनुसार, नेशनल असेंबली की थारपारकर सीट से महेश मलानी ने जीत दर्ज की है। ये तीनों ही उम्मीदवार इतिहास में पहली बार सामान्य सीटों से जीते हैं। मलानी को लोगों ने 106,630 वोट दिए जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी अरबाब जकाउल्लाह को 87,261 मत प्राप्त हुए।

रिपोर्ट के मुताबिक, किश्वरी लाल मीरपुरखास जिले से जीते हैं जहां करीब 15 लाख की आबादी में 23 प्रतिशत हिन्दू हैं। उन्हें पूर्व राष्ट्रपति और पीपीपी के सह अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी का करीबी दोस्त माना जाता है। उन्हें 33,201 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट के मुजीब-उल-हक को 23,506 वोट मिले।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

pakkk

इसके अलावा इसरानी सिंध के जामशोरो जिले में कोहिस्तान क्षेत्र के थानो बोला खान से ताल्लुक रखते हैं। उन्हें 34,927 वोट मिले जबकि उनके विरोधी उम्मीदवार मलिक चंगेज खान की झोली में 26,975 मत गए। पाकिस्तान हिन्दू महासभा के अध्यक्ष डॉ गोविंद राम ने कहा कि सामान्य सीटों से हिन्दू उम्मीदवारों का नामांकन एक अच्छा विचार था।

ऐसे में अब ट्विटर पर भारतीय यूजर सवाल उठा रहे है कि क्या इस वक्त भारत मे मुमकिन है कि कोई मुस्लिम उम्मीदवार हिन्दू बहुल क्षेत्रों से जीत दर्ज कर ले।

Loading...