तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोआन ने मुस्लिम देशों से आर्थिक स्थिरता और कल्याण के स्तर में सुधार कर लोगों के लिए बेहतर जीवन स्तर सुनिश्चित करने का आह्वान करते हुए कहा कि यदि सभी लोग जरूरतमंदों की मदद करने के लिए इस्लामी सिद्धांत का पालन करते हैं तो यह संभव है।

रविवार को इस्तांबुल में इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) की एक बैठक को संबोधित करते हुए, एर्दोआन ने इस बात पर प्रकाश डाला कि मुस्लिम देश अपने लोगों के लिए पर्याप्त मेहनत नहीं कर रहे हैं।

एर्दोआन ने कहा कि “ओआईसी सदस्य राज्यों में रहने वाली 21% आबादी, लगभग 350 मिलियन मुस्लिम लोगों के बराबर है, जो अत्यधिक गरीबी की स्थिति में हैं। ऐसे में मुस्लिम देशों को कठिन और खुलकर चर्चा करने की जरूरत है।

उन्होने कहा, “सबसे अमीर मुस्लिम देश और गरीबों के बीच का अंतर लगभग 200 गुना है। अगर मुसलमान इस्लाम के चौथे स्तंभ के अनुसार जकात देते हैं, तो मुस्लिम देशों में कोई गरीब नहीं होगा। ”

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन