नई दिल्ली । पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ ने आतंकी हफ़ीज़ सईद को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने हफ़ीज़ सईद की कश्मीर घुसपैठ को लेकर कहा की वो इसका समर्थन करते है। इसके अलावा ख़ुद को लश्कर-ए-तैयबा का सबसे बड़ा समर्थक बताते हुए उन्होंने कहा की वो हफ़ीज़ सईद को पसंद करते है। मुशर्रफ़ इससे पहले अल क़ायदा जैसे आतंकी संगठन का भी समर्थन कर चुके है।

पाकिस्तानी टीवी एआरवी को दिए गए इंटरव्यू में मुशर्रफ़ ने उपरोक्त बातें कही। उन्होंने कहा कि मैं हफ़ीज़ सईद से मिल चुका हूँ। वो मुझे और मैं उन्हें काफ़ी पसंद करता हूँ। इसके अलावा जमात-उद-दावा संगठन भी उनको पसंद करता है। सईद की कश्मीर में चल रही घुसपैठ पर उन्होंने कहा की मैं कश्मीर में उनकी कार्यवाही का समर्थन करता हूँ। मैंने हमेशा से उनके ऐक्शन का समर्थन किया है।

मुशर्रफ़ ने आगे कहा की हमें भारतीय सेना को दबाना है। और यह सबसे बड़ा दबाव है। इस बात की हमें जानकारी है की वो कश्मीर में सक्रिय है। यह मुद्दा भारत और पाकिस्तान के बीच में है। इस दौरान मुशर्रफ़ ने ख़ुद को लश्कर-ए-तैयबा का सबसे बड़ा समर्थक क़रार दिया। मुंबई में हुए 26/11 के आतंकी हमले के बारे में पूछने पर मुशर्रफ़ ने कहा की हाफ़िज़ सईद इस हमले में शामिल नही था।

मालूम हो कि पाकिस्तान की एक अदालत ने हाफ़िज़ सईद को हाल ही में रिहा किया है। वो दस महीने से अपने घर पर नज़रबंद थे। रिहा होने के बाद ही हाफ़िज़ सईद ने कश्मीर राग अलापना शुरू कर दिया। हाफ़िज़ ने कहा की वह कश्मीर के लिए पूरे पाकिस्तान से लोगों को जुटाएगा और ‘आजादी’ पाने में कश्मीरियों की मदद करेगा। जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफ़िज़ ने सरकार पर आरोप लगाया की कश्मीर पर मेरी आवाज को दबाने के लिए मुझे 10 महीने तक हिरासत में रखा गया।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?