फ्लोरिडा | अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के 7 मुस्लिम देशो के नागरिको को अमेरिका में बैन करने पर भले ही फेडरल कोर्ट ने रोक लगा दी हो लेकिन उनके आदेश का असर पुरे देश में देखा जा रहा है. यहाँ तक की अमेरिका के सभी एअरपोर्ट पर आने जाने वाले लोगो पर भी कड़ी निगरानी रखी जा रही है. खासकर मुस्लिम धर्म से जुड़े लोगो पर खास ध्यान रखा जा रहा है.

महान बॉक्सर मोहम्मद अली के बेटे मोहम्मद अली जूनियर के साथ हुई घटना तो इसी बात की और इशारा कर रही है की एअरपोर्ट पर इमीग्रेशन डिपार्टमेंट मुस्लिम धर्म के लोगो से कड़ाई से पूछताछ करने के बाद ही जाने दे रहा है. मोहम्मद अली के बेटे ने आरोप लगाया है की फ्लोरिडा एअरपोर्ट पर पहुंचे के बाद उन्हें और उनकी माँ खलीला कामाचो अली को इमिग्रेशन डिपार्टमेंट के लोगो कई घंटे रोके रखा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मोहम्मद अली जूनियर ने बताया की इमीग्रेशन डिपार्टमेंट के अधिकारी बार बार एक ही सवाल पूछ रहे थे की उन्हें यह नाम कहाँ से मिला और क्या तुम मुस्लिम हो? जब अली ने अधिकारियो को बताया की वो मुस्लिम है तो उन्होंने मुझसे धर्म से जुड़े कई और सवाल किये. उन्होंने मुझसे पुछा की तुम कहाँ पैदा हुए? अली जूनियर के अनुसार मेरे साथ इस तरह से व्यव्हार किया जा रहा था जैसे मैंने कोई बड़ा जुर्म किया है.

कुछ देर की पूछ के बाद इमीग्रेशन अधिकारियो ने अली जूनियर की माँ को छोड़ दिया. खलीला ने मोहम्मद अली के साथ अपनी एक तस्वीर अधिकारियो को दिखाई तो उन्होंने उसे जाने दिया लेकिन अली जूनियर तस्वीर में नही थे इसलिए उन्हें नही जाने दिया गया. करीब दो घंटे की पूछताछ के बाद अली जूनियर को छोड़ा गया. दरअसल अली और उसकी माँ जमैका में एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद फोर्ट लॉडरडेल-हॉलीवुड इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पहुंचे थे.

अली जूनियर के वकील और दोस्त क्रिस मैकिनी ने पत्रकारों को बताया की वो इस मुद्दे को फेडरल कोर्ट में उठाएंगे. हम इस बात का भी पता लगाने की कोशिश कर रहे है की इमीग्रेशन अधिकारियो और किन किन लोगो के साथ इस तरह का व्यवहार किया. अली जूनियर कोई क्रिमिनल नही है जिसके साथ ऐसा व्यव्हार किया गया. मेरे हस्तक्षेप के बाद ही अधिकारियो ने अली जूनियर को छोड़ा.

Loading...