अफ़्रीकी देश सूडान में तेज़ी से बदलते सियासी हालात के बीच यहां के रक्षामंत्री (सेना प्रमुख) अवाद इब्न औफ़ ने अपना पद छोड़ दिया है। कई महीनों के विरोध प्रदर्शनों के बाद बुधवार को सूडान की सेना ने औफ़ के नेतृत्व में राष्ट्रपति उमर अल-बशीर की सरकार का तख़्ता पलट दिया था।

अवाद ने पद छोड़ने के अपने फ़ैसले का ऐलान सरकारी टीवी चैनल पर किया। उन्होंने लेफ़्टिनेंट जनरल अब्दुल फ़तह अब्दुर्रहमान बुरहान को अपने उत्तराधिकारी के रूप में नामित किया है। दरअसल, सूडान के लोगों का कहना है कि उन्हें यह तख़्तापलट मंज़ूर नहीं है क्योंकि इसकी अगुवाई करने वाले नेता बशीर के क़रीबी हैं।

Loading...

प्रदर्शनकारियों की मांग है कि सत्ता के स्थानांतरण में पारदर्शिता हो और एक लोकतांत्रिक सरकार का गठन किया जाए।पूर्व राष्ट्रपति उमर अल-बशीर के इस्तीफ़े और उसके 48 घंटों के दौरान रक्षा मंत्री के पद छोड़ने को प्रदर्शनकारी अपनी बड़ी जीत के रूप में देख रहे हैं।

 

लोगों का कहना है कि वो देश में नागरिक शासन चाहते हैं, न कि सैन्य शासन। वहीं सेना ने साफ़ कह दिया है कि वो किसी भी तरह की ‘अराजकता’ बर्दाश्त नहीं करेगी। शुक्रवार को मिलिट्री काउंसिल के एक प्रवक्ता ने कहा कि सेना सूडान की सत्ता नहीं चाहती और देश का भविष्य प्रदर्शनकारी ही तय करेंगे।

हालांकि, प्रवक्ता ने यह भी कहा कि सेना क़ानून-व्यवस्था भंग नहीं होने देगी और न ही किसी तरह की अशांति को बर्दाश्त करेगी।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें