सऊदी अरब के नेतृत्व में बने 41 मुस्लिम देशों के सैन्य गठबन्धन के ऊपर उठ रहे सवालों पर पाकिस्तान ने स्पष्ट किया हैं कि यह गठबंधन किसी देश के खिलाफ नहीं, बल्कि आतंकवाद के ख़िलाफ़ है.

पाकिस्तान की विदेशी सचिव तहमीना जंजुआ ने ने बताया कि पाकिस्तान दो मुस्लिम देशों के बीच टकराव में दखल न देने की अपनी नीति पर कायम है. दरअसल, इस सैन्य गठबन्धन का नेतृत्व पाकिस्तान के पूर्व सेनाध्यक्ष राहील शरीफ संभाल रहे हैं.

दरअसल इस गठबंधन को लेकर सऊदी अरब और ईरान के बीच टकराव देखा जा रहा हैं. ईरान इस गठबंधन को मुस्लिम नाटो बता चूका हैं. जांजुआ ने कहा कि पाकिस्तान सऊदी अरब और ईरान के बीच तनाव कम करने की कोशिश कर रहा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि दोनों देशों के साथ एक जैसा रिश्ता कायम करना मुश्किल है, लेकिन पाकिस्तान कभी ईरान के हितों के खिलाफ नहीं जाएगा. उन्होंने समिति को यह भी भरोसा दिलाया कि इस सैन्य गठबंधन का नेतृत्व करते हुए राहील शरीफ ईरान के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करेंगे.

Loading...