22ozil

तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तईप एर्दोआन के साथ तस्वीर खिंचवाने को लेकर आलोचकों के निशाने पर आए मेसुत ओजिल ने जर्मनी की राष्ट्रीय फुटबॉल टीम को अलविदा कहने का फैसला कर लिया है।

उन्होंने जर्मन फुटबाल महासंघ , उसके अध्यक्ष, प्रशंसकों और मीडिया की आलोचना करते हुए कहा कि तुर्की मूल के लोगों से उनके बर्ताव में दोहरे मानदंड और नस्लवाद की बू आती है।

Loading...

संन्यास की खबर की जानकारी देते हुए ओजिल ने कहा कि एक फोटो के कारण इतना विवाद होना निराशाजनक है। मैंने किसी के साथ फोटो राजनीति या चुनाव के लिए नहीं खिंचवाई थी। मेरा काम फुटबॉल खेलना है ना कि राजनीति करना। हम दोनों की मुलाकात पहले से निश्चित नहीं थी। इसके बावजूद मेरे साथ जो बर्ताव किया गया उससे मेरी इच्छा खत्म हो गई है कि मैं जर्मनी की जर्सी में फिर से खेलू। मेरी जो बिना वजह बेइज्जती हुई है उससे मैं काफी आहत हूं इसलिए मैं दोबारा कभी जर्मनी की तरफ से नहीं खेलूंगा।

उन्होने आगे कहा, टीम मैनेजमेंट ने मेरे लिए जो अपमानजनक टिप्पणी की उससे मैं दुखी नहीं बल्कि हैरान हूं। सभी ने मुझे बलि का बकरा बनाते हुए इसे राजनीति से जोड़ दिया लेकिन अब बहुत हुआ। कई फैंस ने भी मेरे ऊपर गंदी टिप्पणी की। ओजिल ने तो यहां तक बताया कि इस विवाद के बाद उन्हें और उनके परिवार को धमकी भरे फोन आ रहे हैं।

इससे पहले मेसुत के पिता ने भी दुख जाहिर करते हुए कहा था कि मैं उसकी जगह होता तो जर्मनी की तरफ से खेलना छोड़ देता। मेसुत ने जर्मनी के लिए बहुत कुछ किया है लेकिन इसके बदले में उन्हें क्या मिला। उसे बेवजह बलि का बकरा बनाया जा रहा है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें