इस्लाम धर्म की सबसे पवित्र यात्रा का आज से आगाज शुरू हो चुका है। दुनिया भर से सऊदी अरब पहुंचे 20 लाख हाजी मिना के मैदान में पहुंच चुके है। सभी हाजी सोमवार का दिन एवं रात यहाँ पर ही गुज़ारेंगे।

मंगलवार की सुबह सभी हाजी अरफ़ात के मैदान की ओर चल देंगे। यहाँ सभी ज़ोहर और अस्र की नमाज़ एक साथ पढ़ेंगे और सूर्यास्त होने के बाद हाजी मुज़दलेफ़ा की ओर जाएंगे, जहां वे मग़रिब और इशा की नमाज़ पढ़ेंगे।

हाजी मुज़दलेफ़ा के स्थान में पूरी रात बीताएंगे और इस दौरान वे रमी जमरात (शैतान को मारी जाने वाली कंकरियां) को चुनेंगे और फिर सुबह की नमाज़ के बाद एक बार फिर मिना के लिए निकल पड़ेंगे, जहां सबसे बड़े शैतान को कंकरियां मारी जाएंगी। रमी जमरात के बाद सभी हाजी क़ुरबानी करेंगे और अपने बालों को कटवाएंगे।

इसके बाद हाजी “ऐहराम” जो हज का विशेष कपड़ा पहने होते हैं उसको उतार देंगे। ऐहराम उतारने के बाद हाजी पवित्र मक्का पहुंचकर मस्जिदुल हराम में तवाफ़ (परिकर्मा) करेंगे। इसके बाद हाजी सफ़ा व मरवा के दौरान “सई” नमाक संस्कार को अंजाम देंगे। हज के इन सभी संस्कारो को पूरा करने के पश्चात एक बार फिर सभी हाजी मिना वापस लौटेंगे।