ldzhddoo 700x 700x

ldzhddoo 700x 700x

काहिरा |  पूरी दुनिया में फैले हुए मुस्लिम अपनी हर धर्मिक उलझन को सुलझाने के लिए मुस्लिम धर्म गुरु या मौलवी से सलाह मशविरा करते है. उनकी उलझन के आधार पर मौलवी या धर्म गुरु फतवे जारी करते है. लेकिन कभी कभी ये फतवे इतने अजीब होते है की समाज में इनकी आलोचना शुरू हो जाती है. हालाँकि ये फतवे शरियत कानून के हिसाब से ही जारी किये जाते है लेकिन इसकी सही व्याख्या हुई है या नही इस पर हमेशा से बहस होती आई है.

मिश्र के एक जाने माने मौलवी ने भी शरियत की अपने तरीके से व्याख्या कर ऐसी बात कही है की पूरी दुनिया में उनकी आलोचना हो रही है. उनके अनुसार इस्लाम में एक पटिया अपनी नाजायज बेटी के साथ सेक्स और शादी कर सकता है. उनका कहना है की चूँकि नाजायज बेटी का बाप से अधिकारिक तौर पर कोई सम्बन्ध नही होता इसलिए वह अपनी बेटी के साथ शादी कर सकता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मिश्र के मौलवी इमाम अल-शफी ने एक विडियो जारी कर यह बयान दिया. फ़िलहाल यह विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. हालाँकि यह विडियो 2012 का है लेकिन इसको जारी अब किया गया है. ‘द सन’ के मुताबिक मिस्र के प्रसिद्ध अल-अजहर यूनिवर्सिटी में पढ़ाने वाले अल-सेरसावी ने यह विडियो शेयर किया है. अल अजहर का दावा है की अल-शफी नाजायज बेटी के साथ शादी और सेक्स को जायज मानता है.

अल- शफी के अनुसार नाजायज बेटी के साथ उसके बाप का नाम नही जुड़ता है. इसलिए शरिया के अनुसार वह उसकी बेटी नही है. इसलिए उसका पिता अपनी बेटी के साथ शादी और सेक्स कर सकता है. विडियो वायरल होने के बाद इस विडियो पर लोगो की तरह तरह की प्रतिक्रियाए मिल रही है. लोग अल-शफी के विचारधारा पर भी सवाल उठा रहे है और उसकी आलोचना कर रहे है.