trumpescalatestension

वाशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फ्रांस पर तीखा हमला करते हुए कहा कि देश का बड़ा यूरोपीय सहयोगी दोनों विश्वयुद्धों में बर्बाद हो गया होता, अगर अमेरिका ने उसे सैन्य हथियार न उपलब्ध कराये होते.

दरअसल, फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों ने कहा कि यूरोप ने अपनी सेनाएं बनाईं क्योंकि देश रक्षा के लिए अमेरिका पर निर्भर नहीं है. मैक्रों ने यह भी कहा कि यूरोप को चीन, रूस तथा अमेरिका के साइबर खतरों के खिलाफ रक्षा करने की जरूरत है.

इस पर ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘‘मैक्रों ने अमेरिका, चीन और रूस के खिलाफ यूरोप की रक्षा के लिए अपनी सेना बनाने का सुझाव दिया. लेकिन प्रथम और द्वितीय विश्वयुद्ध में जर्मनी भारी था. अमेरिका के आने से पहले वे पेरिस में जर्मन सीख रहे थे….”

macr

इसी बीच अब जर्मनी की चांसलर अंजेला मर्केल ने भी यूरोपियन आर्मी का समर्थन किया है। मर्केल ने यूरोपीय संसद को संबोधित करते हुए कहा, “अगर हम अपने संघ की रक्षा करना चाहते हैं तो हम यूरोपियों को अब अपने विश्वासों को पूरी तरह से अपने हाथों में ले जाना है।”

उन्होंने यूरोपीय संघ को अंतरराष्ट्रीय राजनीति में एक मजबूत किरदार बनाने के लिए कदम उठाने के लिए सदस्य राज्यों से मुलाकात की और तर्क दिया कि यह दीर्घकालिक अवधि में संयुक्त सैन्य संरचनाओं को विकसित करने की भी आवश्यकता है।

मेर्केल ने कहा। “अगर हम पिछले वर्षों के विकास को देखते हैं, तो हमें एक दिन एक असली यूरोपीय सेना बनाने की दृष्टि पर काम करना होगा,”

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें