Saturday, July 24, 2021

 

 

 

मंडेला के पोते ने ट्रम्प की ‘डील ऑफ सेंचुरी’ को सबसे बड़ा धोखा बताया

- Advertisement -
- Advertisement -

दक्षिण अफ्रीकी रंगभेद विरोधी क्रांतिकारी नेता नेल्सन मंडेला के पोते ने बुधवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की तथाकथित “डील ऑफ द सेंचुरी” को अस्वीकार कर दिया।

दक्षिण अफ्रीका में संसद के सदस्य ज्वेलिवेल्ल मंडला मंडेला ने कहा, “हम ट्रम्प और इजरायल के प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू द्वारा मध्य पूर्व के लिए पक्षपातपूर्ण शांति योजना को अस्वीकार करते हैं।”

उन्होंने कहा कि ट्रम्प द्वारा घोषित डील “अहंकार” के उच्चतम स्तर को दर्शाता है और यह कि “अमेरिकी और रंगभेद इजरायल अपने पूर्ण भागीदारी के बिना फिलिस्तीनी लोगों के भविष्य का निर्धारण करने के अधिकार के लिए खुद से पूछताछ करने के लिए पहुंच गया है।”

उन्होंने ये भी कहा, “यह आत्मनिर्णय के अंतर्राष्ट्रीय कानून और संयुक्त राष्ट्र के कई प्रस्तावों के सीधे उल्लंघन में है।” मंडेला ने कहा, ‘डील ऑफ सेंचुरी’ कुछ और नहीं है, बल्कि विशुद्ध रूप से सदी के सबसे बड़े झांसे को फिलिस्तीनी भूमि पर सात दशकों के अवैध कब्जे को वैध बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

नेल्सन मंडेला के पोते ने कहा, यह आगे भी जारी अवैध कब्जे और रंगभेद इजरायल की बस्तियों के विस्तार को सही ठहराने के लिए बनाया गया है।  मंडेला ने दक्षिण अफ्रीका सरकार और उनकी सत्तारूढ़ अफ्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी (एएनसी) से ट्रम्प की योजना को खारिज करने में अपनी आवाज जोड़ने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा, “हम राष्ट्रपति महमूद अब्बास के आह्वान का समर्थन करते हैं कि दुनिया के सभी देशों ने सदी के इस झांसे को खारिज और बहिष्कार किया है। फिलिस्तीनी लोगों की पूर्ण भागीदारी और दृढ़ संकल्प के अलावा फिलिस्तीनी संघर्ष का कोई समाधान नहीं है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles