najib

najib

जेद्दाह: मलेशिया में किंग सलमान सेंटर फॉर इंटरनेशनल पीस की स्थापना को मलेशिया के प्रधानमंत्री मोहम्मद नजीब टुन अब्दुल रज्जाक ने इस्लाम के बारे में अंतरराष्ट्रीय गलतफहमी को सुधारने के लिए बड़ा कदम करार दिया.

मलेशियाई प्रधान मंत्री ने कहा, धार्मिक संस्थानों की भूमिका में केवल विश्वासों का प्रसार शामिल नहीं है बल्कि आतंकवाद और उग्रवाद का मुकाबला भी करना है.उन्होंने इस्लामिक दुनिया के नेताओं से इस्लाम की शिक्षाओं को फैलाने और कानूनों और प्रथाओं में विश्व स्तर पर संयम का बढ़ावा देने के लिए एक योजना विकसित करने का आह्वान किया.

मलेशिया के प्रधान मंत्री ने 20 देशों के 1,000 से अधिक प्रतिनिधियों को सबोंधित करते हुए क विद्वानों और संस्थाओं से भी कथित तौर पर उग्रवादी विचारधाराओं का मुकाबला करने और धार्मिक दायित्वों को निभाने के लिए नए तरीकों को शामिल करने की बात कही.

इस दुआरण मुस्लिम वर्ल्ड लीग (एमडब्ल्यूएल) के महासचिव मोहम्मद अल-इसा ने कहा, “इस्लाम में उदारवाद के मूल्य अतिवाद की सभी अवधारणाओं से दूर हैं. चाहे इस्लामोफोबिया के जरिए इस्लाम पर उग्रवाद और आतंकवाद के झूठे आरोप लगाये गए हो”
उन्होंने कहा: “एमडब्ल्यूएल के नवीनतम आंकड़े बताते हैं कि इस्लामिक दुनिया में 1.8 अरब मुसलमान उदारवादी मुसलमान हैं, जबकि हर 200,000 में से केवल एक ही व्यक्ति चरमपंथी है, और यह एक छोटी संख्या है, फिर भी परेशान और विवादास्पद है.”
अल-इसा ने समझाया कि आतंकवाद को नष्ट करने का मतलब सिर्फ सैन्य स्तर पर आतंकवादी संगठनों से लड़ना नहीं है – बल्कि चरमपंथी विचारधाराओं को पूरी तरह से नष्ट करना है.
मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?