Thursday, June 17, 2021

 

 

 

इजरायल की धमकी के बाद मलेशिया फिलिस्तीनियों की सुरक्षा के लिए जुटा

- Advertisement -
- Advertisement -

मलेशियाई सुरक्षा सेवाओं ने देश में फिलिस्तीनियों की सुरक्षा के लिए सुरक्षा उपाय तेज कर दिए हैं, क्योंकि इजरायल ने प्रतिरोध समूहों से जुड़े फिलिस्तीनियों को निशाना बनाने की धमकी दी थी।

गृह मंत्री दातुक सेरी हमजा ज़ैनुद्दीन ने कहा, “गृह मंत्रालय जनता से शांत रहने का आह्वान करता है क्योंकि देश की सुरक्षा स्थिति नियंत्रण में है और अच्छे स्तर पर है।” उन्होंने कहा कि उनके मंत्रालय ने उन संगठनों के अस्तित्व पर ध्यान दिया जो देश में फिलिस्तीनी लोगों के संघर्ष की आकांक्षाओं का समर्थन करते थे।

उन्होंने कहा, “मलेशियाई सरकार फिलिस्तीनी लोगों की आकांक्षाओं और संघर्ष के लिए अपने निरंतर समर्थन की पुष्टि करती है।” मलेशियाई साइबर डिफेंस ऑपरेशंस सेंटर (सीडीओसी) ने कहा है कि इजरायली मोसाद विदेशों में फिलीस्तीनी लोगों के खिलाफ हमले की योजना बना रहा है।

अप्रैल 2018 में, प्रमुख फ़िलिस्तीनी इंजीनियर फ़दी अल-बत्श की हत्या कर दी गई थी, ऐसा माना जाता है कि उसकी हत्या के पीछे मोसाद का हाथ था।

वहीं वरिष्ठ रक्षा मंत्री दातुक सेरी इस्माइल साबरी याकूब ने कहा कि अगर संयुक्त राष्ट्र से अनुरोध किया जाता है तो मलेशिया फिलिस्तीन में शांति मिशन के लिए अपने सैनिकों को भेजने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि मलेशिया मनमाने ढंग से काम नहीं कर सकता, क्योंकि इस मामले का फैसला संयुक्त राष्ट्र को करना चाहिए।

इस्माइल साबरी ने कहा कि अतीत में, मलेशिया ने संयुक्त राष्ट्र के माध्यम से अपनी शांति टीमों को लेबनान, फिलीपींस, सूडान और सिएरा लियोन जैसे विभिन्न देशों में भेजा था। उन्होंने यह बात तब कही जब उनसे पूछा गया कि क्या रक्षा मंत्रालय शांति मिशन के लिए एमएएफ कर्मियों को फिलिस्तीन भेजेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles