क्वालालंपुर. मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने सोमवार को इस्तीफा दे दिया। प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि महातिर ने वहां के राजा सुल्तान अब्दुल्लाह सुल्तान शाह को इस्तीफा सौंपा दिया है। महातिर मोहम्मद 10 मई  2018 को पीएम बने थे।

विश्व के सबसे उम्रदराज नेता, 94 वर्ष के महातिर ने उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों द्वारा सरकार गिराने और प्रधानमंत्री बनने जा रहे अनवर इब्राहिम को पद भार संभालने से रोकने की कोशिशों के बाद यह फैसला लिया। न्यूज एजेंसी रायटर्स ने बताया कि महातिर की पार्टी (युनाइटेड इंडेजेनियस पार्टी ऑफ मलेशिया या पीपीबीएम) गठबंधन से अलग हो गई है।

महातिर ने ट्वीट कर इस्तीफे की जानकारी दी। जिसके अनुसार, उन्होने पार्टी अध्यक्ष के पद से भी इस्तीफा दे दिया है। उनकी पार्टी के नेता मुहैयीदीन यासिन के मुताबिक, भविष्य में होने वाली साझेदारी पर चिंता जताते हुए हमने गठबंधन की सरकार वाली पार्टी पकातन हरपन का साथ छोड़ दिया है। 23 फरवरी को पार्टी की बैठक में यह फैसला लिया गया था।

महातिर का मलेशिया की राजनीति में अच्‍छा-खासा दखल रहा है। वर्ष 1981 से लेकर साल 2003 तक महातिर मोहम्‍मद देश के प्रधानमंत्री रहे। इसके बाद एक बार फिर से वर्ष 2018 में उन्होंने सत्ता संभाली थी। वर्ष 2018 के चुनाव में उन्होंने नज़ीब रज़ाक को हराया था। रज़ाक पर उस वक्त भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे।

पिछले एक हफ्ते से मलेशिया की राजनीतिक अस्थिरता चल रही थी। दरअसल वर्ष 2018 में महातिर और अनवर इब्राहिम ने मिलकर सरकार बनाई थी। उस वक्त कहा गया था कि 94 साल के महातिर कुछ साल के बाद अनवर को सत्ता सौंप देंगे, लेकिन रविवार को अनवर ने महातिर की पार्टी पर धोखेबाजी का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि महातिर ने धोखा देते हुए यूनाइटेड मलायस नेशनल ऑर्गनाइजेशन (UMNO) के साथ हाथ मिला लिया।

हाल के दिनों में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और महातिर के बीच दोस्ती बढ़ गई थी। उन्होंने कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान के समर्थन में बयान दिया था। इसके बाद भारत और मलेशिया के बीच दोस्ती में दरार आ गई थी। इसके बाद भारत ने मलेशिया से पाम ऑयल के ऑयल के कटौती कर दी थी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन