Saturday, October 23, 2021

 

 

 

अभिव्यक्ति की आढ़ में मुसलमानों के प्रति बढ़ रही खुली दुश्मनी: मलेशिया

- Advertisement -
- Advertisement -

फ्रांसीसी कार्टून विवाद के बीच मलेशिया ने मंगलवार को कहा कि वह मुक्त भाषण (फ्री स्पीच) के समर्थन के नाम पर मुसलमानों के प्रति बढ़ती और खुली दुश्मनी के बारे में “गंभीर रूप से चिंतित” है।

विदेश मंत्री हिशामुद्दीन हुसैन ने एक बयान में कहा, “मलेशिया, अभिव्यक्ति और स्वतंत्रता की स्वतंत्रता को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है क्योंकि जब तक इन अधिकारों का सम्मान और जिम्मेदारी के साथ प्रयोग किया जाता है, तब तक दूसरों के अधिकारों का उल्लंघन नहीं होता है।”

इस संदर्भ में, इस्लाम के पवित्र पैगंबर को बदनाम और कलंकित करना और इस्लाम को आतंकवाद से जोड़ना निश्चित रूप से ऐसे अधिकारों के दायरे से परे है। इस तरह का कृत्य इस्लाम और दुनिया भर में दो अरब से अधिक मुसलमानों के प्रति उत्तेजक और अपमानजनक है।

बयान में एक बार फ्रांस का उल्लेख नहीं किया गया। लेकिन एक मंत्री के सहयोगी ने बेनारन्यूज को बताया कि मंत्री फ्रांस में वर्तमान दौरों का उल्लेख कर रहे थे। मलेशिया की पैन इस्लामिक पार्टी (पीएएस), जो सत्तारूढ़ गठबंधन का एक हिस्सा है, ने मंगलवार को कुआलालंपुर में फ्रांसीसी दूतावास को इस्लामोफोबिया के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का ज्ञापन भेजा।

फ्रांसीसी दूतावास के सामने प्रेस कॉन्फ्रेंस में पार्टी के उपाध्यक्ष इदरीस अहमद ने कहा कि ज्ञापन में मांग की गई कि फ्रांस पाटी को दिया गया मरणोपरांत सम्मान वापस ले, चार्ली हेब्दो के प्रकाशन लाइसेंस को निलंबित करे, और ” पैगम्बर के अपमान के लिए” पत्रिका पर प्रतिबंध लगाए।

इदरीस ने कहा, “जो लोग सभ्य हैं और नैतिक मूल्य रखते हैं, वे कभी भी किसी भी धर्म के खिलाफ अपमान स्वीकार नहीं कर सकते हैं। फ्रांस में जो हो रहा है वह शर्मनाक है। एक उच्च विकसित देश के लिए इस तरह से व्यवहार करना उचित नहीं है।”

मलेशियाई विपक्ष के नेता अनवर इब्राहिम ने भी मैक्रॉन की आलोचना की। उन्होंने कहा, “स्वतंत्रता के साथ जिम्मेदारी आती है। उन्होने फ्रांसीसी शिक्षक की हत्या की भी निंदा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles