khurram jayawardene sangakkara

भारत के पड़ोसी देश श्रीलंका में एक बार फिर से अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है. ऐसे में सरकार की और से सांप्रदायिक दंगे को रोकने के लिए 10 दिन के लिए आपातकाल की घोषणा की गई है.

इसी बीच श्रीलंकाई क्रिकेट टीम के पूर्व कप्‍तान माहेला जयवर्धने और कुमार संगाकारा ने देशवासियों से शान्ति की अपील करते हुए हिंसा को रोके जाने की मांग की है. कुमार संगाकारा ने ट्विटर कर कह, “श्रीलंका में किसी भी व्यक्ति को अपनी जाती या धर्म के कारण हाशिए पर नहीं धकेला जा सकता है. हम एक हैं और हमारा देश एक है. प्रेम, विश्वास और स्वीकृति हमारी मुख्य धारणा होनी चाहिए. नस्लवाद और हिंसा के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए. सभी एक साथ खड़े हों और खुद को मजबूत करें.”

वहीँ माहेला जयवर्धने ट्वीट कर कहा, ‘मैं हिंसक घटनाओं की कड़े शब्‍दों में निंदा करता हूं. इसमें शामिल प्रत्‍येक व्‍यक्ति को न्‍याय के कठघरे में लाना चाहिए, फिर चाहे वे किसी भी जात‍ि, धर्म या समुदाय के क्‍यों न हों. मैं ऐसे समय पला-बढ़ा जब देश सिविल वॉर के दौर से गुजर रहा था. यह लगातार 25 वर्षों तक चला था. मैं नहीं चाहता कि आने वाली पीढ़ी वैसे ही हालात से गुजरे.’

STOP #Digana #SriLanka

A post shared by Kumar Sangakkara Personal Page (@sangalefthander) on

आपको बता दें कि, पिछले दो महीने के अंदर गॉल में मुसलमानों की मिल्कियत वाली कंपनियों और मस्जिदों पर हमले की 20 से ज़्यादा मामले सामने आ चुकें है. ऐसे में श्रीलंका सरकार ने सांप्रदायिक हिंसा पैदा करने वाले लोगों के खिलाफ ‘कठोर कार्रवाई’ करने के लिए एक देशव्यापी आपातकाल की स्थिति लागू की है.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें