5bbc

पत्रकार जमाल खशोगी के लापता होने के मामले की जांच के सिलसिले में तुर्की के जांच अधिकारियों की एक टीम ने इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास की दूसरी बार तलाशी ली।

तुर्क पुलिस ने बुधवार को भी इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्य राजदूत मोहम्मद अल-ओतैबी के आवास की तलाशी ली थी। इससे एक दिन पहले अल-ओतैबी इस्तांबुल से रियाद रवाना हो गए थे। बता दें कि बीते दो अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी वाणिज्य दूतावास में दाखिल होने के बाद से खशोगी लापता हैं।

मौके पर मौजूद एएफपी के संवाददाता के मुताबिक, जांच अधिकारियों ने बाग का मुआयना किया। जांच टीम के कुछ लोगों को वाणिज्य दूत के आवास में छत पर देखा गया। इमारत के ऊपर एक ड्रोन का भी सहारा लिया गया। जांच अधिकारी रात करीब 1:30 बजे वाणिज्य दूत के आवास से निकले लेकिन कुछ अधिकारी पास ही स्थित दूतावास परिसर में तलाशी के लिए गए। गुरुवार तड़के तक यह तलाशी जारी थी।

तुर्की पुलिस ने सोमवार की रात सऊदी दूतावास परिसर में आठ घंटे तक तलाशी ली थी। वे वहां से मिट्टी और डीएनए के नमूने ले गए थे। इसी बीच वॉशिंगटन पोस्ट ने खशोगी की ह’त्या में सऊदी के पूर्व राजनायिक माहेर अब्दुलअजीज मुतरेब की अहम भूमिका बताई है।

पोर्ट के मुताबिक, सऊदी में जांच अधिकारी रह चुके मुतरेब को साजिश की पूरी जानकारी थी। वे क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के करीबी बताए जाते हैं। अमेरिकी अधिकारियों का कहना है ये मुमकिन नहीं कि सलमान का करीबी कोई अधिकारी बिना उनकी जानकारी के विदेश के किसी ऑपरेशन में शामिल हो।

इसके अलावा अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पहली बार खशोगी की ह’त्या की आशंका जताई है। गुरुवार को विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के सऊदी से लौटने के कुछ ही देर बाद ट्रम्प ने कहा कि अब उन्हें भी लगता है कि खशोगी की ह’त्या हो गई है।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें