एक समय तक अमेरिकी लोगो की चहेती रही लिंडसे लोहान ने जब से इस्लाम अपनाया है तब से इस्लाम फोबिया से ग्रस्त मीडिया और जनता के आँखों की किरकिरी बनना शुरू हो गयी है. ऐसे में उस देश के कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े होते है जो महिलाओं के अधिकारों की बात सबसे आगे रहकर करते है, यदि कोई महिला अपनी स्वतंत्रा से हिजाब पहनना चाहे तो क्या वो सरकार की दुश्मन हो गयी या अब प्रजातंत्र उसे भी आतंकी समझना शुरू कर दे. या पश्चिमी सभ्यता में महिलाओं के अधिकारों की बात उनके कपड़ों से होती है .. यानी की जितने खुले कपड़े उतने ही अधिक खुले विचारों की महिला.. अगर ऐसा है तो अफ्रीकी जनजातियाँ विश्व में सबसे अधिक खुले विचारों की है और नन,बुर्के वाली महिलाएं और चीनी महिलायें सबसे अधिक दकियानूसी.

पिछले कुछ समय से इस्लाम धर्म से संबंधों को लेकर अमेरिकी अभिनेत्री लिंडसे लोहान चर्चा में चल रही हैं. लेकिन इस बार वो एक बार फिर से सुर्खियों में नज़र आयी, उन्होंने एक टॉक शो के दौरान बताया कि उनके नस्ली भेदभाव किया गया.

मामला लंदन के हीथ्रो हवाई अड्डे का हैं जब वो अमेरिका के लिए रवाना हो रही थी, जहां उनको एक सुरक्षा अधिकारी ने इसलिए रोक लिए क्योकि लिंडसे हिजाब बांधे हुए थी. जिसके बाद लिंडसे ने सुरक्षा अधिकारी को अपना पासपोर्ट दिया और उससे बोला इसको देखिये.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हालाँकि पासपोर्ट देखने के बाद उस अधिकारी ने लिंडसे को जाने दिया लेकिन उससे हिजाब को हटाने को बोला. उल्लेखनीय हैं कि लिंडसे तुर्की से वापस आ रही थी जहां वो तुर्की के राष्ट्रपति से मिलने गयी थी.

Loading...