jahi

jahi

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में ख़त्म-ए-नबुवत कानून में छेड़छाड़ के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे सुन्नी संगठनों ने अपना आंदोलन वापस लेने के लिए रज़ामंदी दे दी है. आंदोलन वापस लेने का फैसला कानूनमंत्री जाहिद हामिद के इस्तीफे के बाद लिया गया है.

प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे इस्लामिक समूह तहरीक-ए-लबैक के प्रवक्ता एजाज अशरफी ने कहा, ‘हमारी मुख्य मांग को स्वीकार कर लिया गया है.’ एजाज ने कहा कि सरकार कानून मंत्री के इस्तीफे का ऐलान करेगी और उसे बाद अपने आंदोलन को वापस ले लेंगे.

न्यूज़ पेपर डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक कानून मंत्री जाहिद हामिद ने अपना इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने कहा कि मैं अपनी इच्छा से पद से इस्तीफा दे रहा हूं. ध्यान रहे तहरीक-ए-खत्म-ए-नबूवत, तहरीक-ए-लबैक या रसूल अल्लाह (टीएलवाईआर) और सुन्नी तहरीक पाकिस्तान (एसटी) जैसे संगठनों के नेतृत्व में हजारों की संख्या सुन्नी मुसलमान कानून मंत्री जाहिद हमीद के इस्तीफे की मांग कर रहे थे.

करीब 2,000 से ज्यादा कार्यकर्ताओं ने दो सप्ताह से अधिक समय से अपनी मांगों को लेकर इस्लामाबाद एक्सप्रेसवे और मुरी की घेराबंदी कर रखी थी. इस्लामाबाद के सिटी मजिस्ट्रेट की और से प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई के आदेश देने के बाद प्रदर्शन हिंसक हो गया था.

इस पर सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई की थी, जिसमें 200 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे और करीब 6 लोगों की मौत हो गई थी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?