Sunday, October 24, 2021

 

 

 

कुवैत में उठी इजरायल के साथ रिश्ते रखने वाली अरब कंपनियों के बहिष्कार की मांग

- Advertisement -
- Advertisement -

प्रमुख कुवैती विद्वान तारेक अल-सुवादन ने अरब कंपनियों के बहिष्कार का आह्वान किया है। उन्होने इजरायल के साथ रिश्ते रखकर लाभ उठाने वाली अरब के बहिष्कार की बात कहीं है।

सय्योनी उत्पादों और उनके समर्थकों के बहिष्कार की आवश्यकता” पर बोलते हुए अल-सुवैदन ने कहा कि इजरायली उत्पादों के खिलाफ वैश्विक अभियान का विस्तार अरब कंपनियों को किया जाना चाहिए, जो कब्जे वाले राज्य के साथ सामान्यीकरण से लाभान्वित होंगे।

कुवैती विद्वान तारेक अल-सुवादन मध्य पूर्व में एक जाना-माना नाम है। उनके ट्विटर पर लगभग दस मिलियन और फेसबुक पर 8.4 मिलियन प्रशंसक हैं।

अल-सुवैदन ने संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र, बहरीन या इस क्षेत्र के किसी भी अन्य देश की कंपनियों से इजरायल के सहयोग के भंडाफोड़ करने का भी आग्रह किया। चाहे वह बैंकिंग, विमान या अन्य किसी अन्य क्षेत्र में हो। उन्होने कहा, इज़राइल से लाभ लेने वाली कंपनियों के उत्पादों का बहिष्कार किया जाना चाहिए।

अल-सुएवन को समझाया कि अरब के लोग एक शक्तिशाली ताकत है, जिसके MENA क्षेत्रों की 578 मिलियन आबादी है। यदि अरब लोगों ने ज़ायोनी राज्य से लाभ लेने वाली कंपनियों का बहिष्कार किया, तो इससे गैर-मुस्लिम अरबों सहित लगभग 300 मिलियन लोगों को भारी नुकसान हो सकता है, जो बहिष्कार में दुनिया भर में भाग लेंगे।

अल-सुवादन ने दावा किया, “इस्लामिक राष्ट्र पूरी तरह से सामान्यीकरण को खारिज करता है”, और दुश्मन के उत्पादों के बहिष्कार में भाग लेकर इस पर सबसे बड़ा नुकसान उठाकर सामान्यीकरण का सामना करना लोगों का कर्तव्य है। “

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles