दुबई: कुवैत के अमीर (शासक) शेख सबाह अल अहमद अल सबाह का 91 वर्ष की उम्र में मंगलवार को निधन हो गया। शेख सबाह साल 2006 में कुवैत की सत्ता पर काबिज थे। उनके निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुख जताया है।

शेख सबाह कुवैत सैन्य बलों को कमांडर थे। राष्ट्रीय असेंबली से अनुमति मिलने के बाग 29 जनवरी 2006 को उन्होंने शपथ ली थी। शेख सबाह तब से ही कुवैत का नेतृत्व कर रहे थे। वह शेख अहमद अल-जबर अल-सबाह के चौथे बेटे थे। 83 वर्षीय उनके भाई शेख नवाफ को क्राउन प्रिंस के रूप में कुछ शक्तियां अस्थायी रूप से दी गई हैं।

शेख शेख सबा अल अहमद काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। अभी हाल ही में सर्जरी के लिए अमरीका गए थे। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उन्हें लाने के लिए वायुसेना का एक विशेष विमान भेजा था। इसके लिए कुवैत के क्राउन ने पत्र लिखकर ट्रंप को धन्यवाद भी कहा था।

शेख अल सबाह ने कतर और अन्य अरब देशों के बीच विवाद को हल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। आज की तारीख तक वे अन्य देशों के साथ कतर के विवाद को हल करने की कोशिशों में जुटे रहे थे। शेख सबाह के निधन के बाद क्राउन प्रिंस शेख नवाफ अल अहमद अल सबाह कुवैत का नेतृत्व संभालेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उनके निधन पर शोक जाहिर किया। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, आज कुवैत और अरब दुनिया ने एक लोकप्रिय नेता खोया है, भारत ने एक करीबी मित्र खोया है और दुनिया ने एक महान स्टेट्समैन खो दिया है। उन्होंने कहा संकट के इस समय में मेरी संवेदनाएं शेख सबाह के परिवार और कुवैत के नागरिकों के साथ हैं।

Download Amar Ujala App for Breaking News in Hindi & Live Updates. https://www.amarujala.com/channels/downloads?tm_source=text_share

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano