king salman arun jaitley

king salman arun jaitley

दो पवित्र मस्जिदों के कस्टोडियन किंग सलमान ने रविवार को रियाद में अल-यमामाह पैलेस में भारतीय वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की. उन्होंने द्विपक्षीय संबंधों और विभिन्न क्षेत्रों में विकसित करने के तरीके पर चर्चा की. जेटली सऊदी अरब की 12 दिवसीय सऊदी-भारतीय संयुक्त आयोग की बैठक (जेसीएम) की अध्यक्षता में दो दिवसीय आधिकारिक दौरे पर आए हैं.

सऊदी गजेट के मुताबिक, वाणिज्य और निवेश मंत्री और सऊदी-भारतीय संयुक्त आयोग माजिद अल-क़साबी और भारतीय वित्त मंत्री ने रविवार को ‘सऊदी-भारतीय व्यापार परिषद’ में आर्थिक संबंधों को मज़बूत करने पर चर्चा की. वहीँ जेटली ने जनाद्रिया राष्ट्रीय विरासत और सांस्कृतिक महोत्सव में ‘भारत पवेलियन’ का दौरा किया.

जेटली ने सऊदी चैंबर (सीएससी) की परिषद में बड़ी संख्या में सऊदी के शीर्ष बिज़नसमैन के साथ एक बैठक की, जहां सीएससी अध्यक्ष अहमद सुलेमान अल-राजी ने उनका स्वागत किया.

“व्यापार और वाणिज्य के क्षेत्र में सऊदी और भारत के बीच प्रगतिशील रूप से बढ़ते सहयोग; और व्यापार संबंधों को मजबूत करने पर बैठक में ध्यान केंद्रित किया गया. इसी के साथ सीएससी ने अपने बयान में कहा कि, सऊदी अरब भारत का चौथा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है और भारत के लिए एक प्रमुख ऊर्जा आपूर्तिकर्ता है. आपको बता दें कि 2016-17 में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 25 अरब डॉलर से ज़्यादा का हो गया है.

अगली बैठक में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग, ज्ञान विनिमय और आर्थिक संबंधों को बढ़ाने पर ध्यान दिया जाएगा.

सऊदी अरब और भारत के सौहार्दपूर्ण और मैत्रीपूर्ण संबंध है. 2014 में क्राउन प्रिंस के तौर पर किंग सलमान ने भारत का दौरा किया था. जिससे दोनों देशों के बीच संबंधों को मज़बूत किया गया. इसके अलावा, अप्रैल 2016 में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सऊदी यात्रा से दोनों देशों के बीच बढ़ती हुई भागीदारी में एक महत्वपूर्ण मोड़ देखा गया है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?