पत्रकार जमाल खशोगी की ह’त्या के मामले में आमने-सामने खड़े सऊदी अरब और तुर्की के बीच ठनी हुई है। तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तैयप अर्दोआन ने सऊदी सरकार पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि हुकूमत के बड़े औहदेदार शामिल है। हालांकि उन्होने किंग सलमान को बेदाग बताया।

अर्दोआन ने एक लेख में कहा, “हमें पता है कि खशोगी की हत्या के निर्देश सऊदी सरकार के उच्च स्तर पर बैठे हुक्मरानों की तरफ से आए थे। हालांकि, उन्होंने यह भी भरोसा जताया कि किंग सलमान की ह’त्या में कोई भूमिका नहीं थी।

वॉशिंगटन पोस्ट के लिए लेख में अर्दोआन ने कहा, “हमें पता है कि इस्तांबुल स्थित दूतावास में हत्या को अंजाम देने वाले वही लोग हैं जिन्हें सऊदी अरब में हिरासत में लिया गया है। हमें यह भी पता है कि जो लोग खशोगी की ह’त्या के लिए आए थे उन्हें सरकार के बड़े लोगों से निर्देश मिले थे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होने कहा कि ह’त्या में सुरक्षा अधिकारियों के अलावा कुछ और लोग भी शामिल थे। उन्होंने ह’त्या के पीछे के असली खिलाड़ी का नाम जल्द उजागर होगा। उन्होने ये भी कहा, “किसी भी देश को अपने नाटो साथी की जमीन पर इस तरह की हरकत को अंजाम देने की हिम्मत नहीं करनी चाहिए। अगर कोई इस चेतावनी को नजरअंदाज करता है, तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे।”

अर्दोआन ने कहा कि तुर्की छोड़ चुके सऊदी के राजदूत के खिलाफ अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने सऊदी के पब्लिक प्रॉसिक्यूटर पर जांच में सहयोग और आसान सवालों के जवाब भी न देने का आरोप लगाया। बता दें कि खशोगी 2 अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास में अपनी शादी से जुड़े दस्तावजे लेने गए थे, लेकिन वापस नहीं लौटे। बाद में सऊदी ने कबूल किया कि खशोगी को हत्यारों की एक टीम ने दूतावास के अंदर ही मा’र डाला।

Loading...