Tuesday, December 7, 2021

मुस्लिम महिला ने उर्दू में लिखी रामायण, पेश की सांप्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल

- Advertisement -

उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक मुस्लिम महिला ने सांप्रदायिक सौहार्द्र और आपसी भाईचारे की अनूठी मिसाल पेश की है। माही तलत सिद्दीकी नामक इस महिला ने रामायण को उर्दू में लिखा है।

डॉक्टर माही ने हिंदी साहित्य में एमए की डिग्री हासिल की है और 2 साल पहले उन्हें रामायण की एक प्रति उपहार स्वरुप मिली थी। कानपुर के ही बद्री नारायण तिवारी ने उन्हें रामायण की प्रति सौंपी थी।

इस बारे मे माही ने कहा वह चाहती थीं कि हिंदू समुदाय के अलावा मुस्लिम समुदाय को भी रामायण की अच्छी बातों के बारे में पता चले, इसी वजह से उन्होंने रामायण को उर्दू में लिखने की सोची।

माही ने कहा कि समाज के कुछ लोग धार्मिक मुद्दों को भड़काकर अपने स्वार्थ की दुकानें चलाते हैं लेकिन कोई भी धर्म आपस में बैर करना नहीं सिखाता। सभी धर्मों के लोगों को आपस में प्यार और सद्भावना से रहना चाहिए और इसके लिए जरूरी है कि एक-दूसरे के धर्मों की भी इज्‍जत की जाए।

रामायण को उर्दू में लिखने में माही को डेढ़ साल से ज्यादा का समय लगा। रामायण के एक-एक दोहे को माही ने काफी करीने से अनुवाद किया क्योंकि इस बात का काफी ध्यान रखना पड़ा की मूल मतलब न बदल जाए। माही के मुताबिक रामायण का उर्दू में लिखने के बाद काफी तसल्ली और सुकून मिला।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles